शुक्रवार, 30 दिसंबर 2011

महाभारत में पृथ्वी का पूरा मानचित्र हजारों वर्षों पहले

उपरोक्त मानचित्र  11 वीं शताब्दी में रामानुजाचार्य द्वारा महाभारत  के निम्नलिखित श्लोक को पढ्ने के बाद बनाया गया था-

सुदर्शनं प्रवक्ष्यामि द्वीपं तु कुरुनन्दन। परिमण्डलो महाराज द्वीपोऽसौ चक्रसंस्थितः॥ यथा हि पुरुषः पश्येदादर्शे मुखमात्मनः। एवं सुदर्शनद्वीपो दृश्यते चन्द्रमण्डले॥ द्विरंशे पिप्पलस्तत्र द्विरंशे च शशो महान्।
                                                                                                                वेद व्यास -भीष्म पर्व -महाभारत

अर्थात
हे कुरुनन्दन ! सुदर्शन नामक यह द्वीप चक्र की भाँति गोलाकार स्थित है, जैसे पुरुष दर्पण में अपना मुख देखता है, उसी प्रकार यह द्वीप चन्द्रमण्डल में दिखायी देता है। इसके दो अंशो मे पिप्पल और दो अंशो मे महान शश(खरगोश) दिखायी देता है। अब यदि उपरोक्त संरचना को कागज पर बनाकर व्यवस्थित करे तो हमारी पृथ्वी का मानचित्र बन जाता है, जो हमारी पृथ्वी के वास्तविक मानचित्र से बहुत समानता दिखाता है।
                                            एक खरगोश और दो पत्तो का चित्र
                                   चित्र को उल्टा करने पर बना पृथ्वी का मानचित्र
                                              उपरोक्त मानचित्र ग्लोब में
 http://hi.wikipedia.org/wiki/पृथ्वी_का_हिन्दू_वर्णन

शनिवार, 24 दिसंबर 2011

श्री महागणेश स्तुती

                                                          ॐ श्रे महा गणेशाय नमः


                                            गणनायकाय गणदेवताय गणाध्यक्षाय धीमहि ।
                                            गुणशरीराय गुणमण्डिताय गुणेशानाय धीमहि ।
                                             गुणातीताय गुणाधीशाय गुणप्रविष्टाय धीमहि ।
                                               एकदंताय वक्रतुण्डाय गौरीतनयाय धीमहि ।
                                              गजेशानाय भालचन्द्राय श्रीगणेशाय धीमहि ॥...
                                                 गानचतुराय गानप्राणाय गानान्तरात्मने ।
                                                 गानोत्सुकाय गानमत्ताय गानोत्सुकमनसे ।
                                                 गुरुपूजिताय गुरुदेवताय गुरुकुलस्थायिने ।
                                                 गुरुविक्रमाय गुह्यप्रवराय गुरवे गुणगुरवे ।
                                                   गुरुदैत्यगलच्छेत्रे गुरुधर्मसदाराध्याय ।
                                                    गुरुपुत्रपरित्रात्रे गुरुपाखण्डखण्डकाय ।
                                               गीतसाराय गीततत्त्वाय गीतगोत्राय धीमहि ।
                                              गूढगुल्फाय गन्धमत्ताय गोजयप्रदाय धीमहि ।
                                              गुणातीताय गुणाधीशाय गुणप्रविष्टाय धीमहि ।
                                                एकदंताय वक्रतुण्डाय गौरीतनयाय धीमहि ।
                                               गजेशानाय भालचन्द्राय श्रीगणेशाय धीमहि ॥...
                                                   ग्रन्थगीताय ग्रन्थगेयाय ग्रन्थान्तरात्मने ।
                                                    गीतलीनाय गीताश्रयाय गीतवाद्यपटवे ।
                                                  गेयचरिताय गायकवराय गन्धर्वप्रियकृते ।
                                                  गायकाधीनविग्रहाय गङ्गाजलप्रणयवते ।
                                                      गौरीस्तनन्धयाय गौरीहृदयनन्दनाय ।
                                                           गौरभानुसुताय गौरीगणेश्वराय ।
                                               गौरीप्रणयाय गौरीप्रवणाय गौरभावाय धीमहि ।
                                                 गोसहस्राय गोवर्धनाय गोपगोपाय धीमहि ।
                                                गुणातीताय गुणाधीशाय गुणप्रविष्टाय धीमहि ।
                                                  एकदंताय वक्रतुण्डाय गौरीतनयाय धीमहि ।
                                                  गजेशानाय भालचन्द्राय श्रीगणेशाय धीमहि ॥...

गुरुवार, 22 दिसंबर 2011

भिक्षा , भीख और दान मे अंतर

                                                          ॐ श्री महा गणेशाय नमः    

 भीख :- भीख  सिर्फ भीख है और यह सिर्फ भिखारी को सहायता के रूप मे दया स्वरूप दी जाती है इसे दान भी नही कहा जा सकता क्यूंकी दान का भी एक निश्चित उद्देश्य होता है परंतु भीख का कोई उद्देश्य नही होता । भीख देने के लिए किसी की योग्यता-अयोग्यता भी नही देखी जाती भीख तो बस दे दी जाती है । भीख देने की बाद यह भी नही सोचा जा सकता की इसे लेकर क्या वह कोई अच्छा कार्य करेगा य यूं ही इसे उड़ा दिया जाएगा ।

भिक्षा :- भिक्षा देने के उद्देश्य होते है भिक्षा लेने वाले सदा य आशा की जाती है की व इसे लेकर सभी के हिट के लिए कार्य करेगा  या फिर स्वयं का जीवन यापन करेगा और पूरी तरह सभी के हित के लिए समर्पित रहेगा .
वेदिक काल मे भिक्षा ब्राह्मणो द्वारा ली जाती थी ताकि वे सामान्य व सादा जीवन जी सकें और उन्हे अपने पेट भरने के लिए कोई भी कार्य न करना जिससे वे अपनी शारीरिक शुद्धी पर पूरा ध्यान दे सकें और वेदाध्यन यज्ञ विध्यार्थियों को निशुल्क शिक्षा आदि कार्य कर सकें । भिक्षा के लिए योग्यता की आवश्यकता जरूर है सभी के हित के उद्देश्य से भेंट पाने की इच्छा भिक्षा कहलाती है । बहुत बड़ा अंतर है भीख और भिक्षा मे ।    

दान:- दान को भीख आदि के समान कहना निश्चय ही मूर्खतापूर्ण है दान मे भी भिक्षा के ही समान लक्षण होते हैं परंतु अंतर इतना होता है कि दान देने वाला इन्ही सब कारणो व लक्षणो आदि को ध्यान मे रखते हुये स्वयं जाकर इच्छित स्थान पर , समय मे  या व्यक्ति को दान देता है  दान के कई प्रकार हैं परंतु एसा कोई भी प्रकार नही जिससे भीख और भिक्षा मे समानता महसूस हो  

                                                 

From the heart of a Muslim



"I am a Muslim by faith.... a Christian by spirit ....a Jew by heart....and above all I am a human being." Dr. Tawfik Hamid.

Dr. Hamid is an Egyptian scholar and author opposed to Islam fundamentalism.
I was born a Muslim and lived all my life as a follower of Islam.
After the barbaric terrorist attacks done by the hands of my fellow Muslims everywhere on this globe, and after the too many violent acts by Islamists in many parts of the world, I feel responsible as a Muslim and as a human being, to speak out and tell the truth to protect the world and Muslims as well from a coming catastrophe and war of civilizations. I have to admit that our current Islamic teaching creates violence and hatred toward Non-Muslims. We Muslims are the ones who need to change. Until now we have accepted polygamy, the beating of women by men, and killing those who convert from Islam to other religions. We have never had a clear and strong stand against the concept of slavery or wars, to spread our religion and to subjugate others to Islam and force them to pay a humiliating tax called Jizia. We ask others to respect our religion while all the time we curse non-Muslims loudly (in Arabic) in our Friday prayers in the Mosques.
What message do we convey to our children when we call the Jews "Descendants of the pigs and monkeys".. Is this a message of love and peace, or a message of hate?
 I have been into churches and synagogues where they were praying for Muslims. While all the time we curse them, and teach our generations to call them infidels, and to hate them.   We immediately jump in a 'knee jerk reflex' to defend Prophet Mohammed when someone accuses him of being a pedophile while, at the same time, we are proud with the story in our Islamic books, that he married a young girl seven years old (Aisha) when he was above 50 years old.    I am sad to say that many,  if not most of us, rejoiced in happiness after September 11th and after many other terror attacks.   Muslims denounce these attacks to look good in front of the media, but we condone the Islamic terrorists and sympathise with their cause.  Till now our 'reputable' top religious authorities have never issued a Fatwa or religious statement to proclaim Bin Laden as an apostate, while an author, like Rushdie, was declared an apostate who should be killed according to Islamic Shariia law just for writing a book criticizing Islam.    Muslims demonstrated to get more religious rights as we did in France to stop the ban on the Hejab (Head Scarf), while we did not demonstrate with such passion and in such numbers against the terrorist murders.
It is our absolute silence against the terrorists that gives the energy to these terrorists to continue doing their evil acts.  We Muslims need to stop blaming our problems on others or on the Israeli/Palestinian conflict. As a matter of honesty, Israel is the only light of democracy, civilization, and human rights in the whole Middle East .
We kicked out the Jews with no compensation or mercy from most of the Arab countries to make them "Jews-Free countries" while Israel accepted more than a million Arabs to live there, have its nationality, and enjoy their rights as human beings. In Israel , women can not be beaten legally by men, and any person can change his/her belief system with no fear of being killed by the Islamic law of 'Apostasy,' while in our Islamic world people do not enjoy any of these rights.  I agree that the 'Palestinians' suffer, but they suffer because of their corrupt leaders and not because of Israel .    It is not common to see Arabs who live in Israel leaving to live in the Arab world. On the other hand, we used to see thousands of Palestinians going to work with happiness in Israel , its 'enemy'. If Israel treats Arabs badly as some people claim, surely we would have seen the opposite happening.
We Muslims need to admit our problems and face them. Only then we can treat them and start a new era to live in harmony with human mankind.  Our religious leaders have to show a clear and very strong stand against polygamy, pedophilia, slavery, killing those who convert from Islam to other  religions, beating of women by men, and declaring wars on  non-Muslims to spread Islam.
Then, and only then, do we have the right to ask others to respect our religion. The time has come to stop our hypocrisy and say it openly: 'We Muslims have to Change'.   Tawfik Hamid

पवन पुत्र हनुमान का जन्म

                                        ॐ श्री रुद्र रूपाय श्री महागणेशाय नमः

मैत्रेय उवाचभगवन्हनुमन्मंत्रप्रभावो भवतश्श्रुतः। तस्योत्पत्तिं स्वरूपं च श्रोतुमिच्छाम्यहं प्रभो॥१॥मैत्रेय बोलेभगवन्! हनुमान के मंत्रों का प्रभाव आपसे सुना है। उनके जन्म और स्वरूप के बारे मे सुनना चाहता हूँ।

हनुमन्नाम वा कोऽसौ कस्य पुत्रस्स कीदृशः। किं कर्मा तस्य चोत्पत्तिः कथं ब्रहन्वदस्व मे॥२॥हनुमान नाम वाले वह कौन हैं? किसके पुत्र हैं? कैसे हैं? उन्होंने क्या कर्म किये? और उनकी उत्पत्ति कैसे हुई? ब्रह्मन्! मुझे बतायें।

पराशर उवाचइतिहासं पुरा वक्ष्ये मैत्रेय शृणु तत्त्वतः। छायानाम महासाध्वी तनूजा विश्वकर्मणः॥३॥स तां ददौ भास्कराय सा न सेहे रवेः प्रभाम्।पराशर बोलेमैत्रेय! मैं तुम्हें इतिहास बताऊँगा, ध्यान से सुनो। पिछले काल में विश्वकर्मा की महासाध्वी छाया नाम की पुत्री हुई। विश्वकर्मा ने पुत्री का विवाह सूर्य से किया परन्तु वह सूर्य की प्रभा को सहन न कर पाई।

मात्रा पृष्टावदत्कन्या दुर्गमा पति सन्निधिः॥४॥मातर्ममाभूदधुना तस्य तीक्ष्णकरेण वै। पुत्रिकावचनं श्रुत्वा सावदत्स्वपतेः प्रसूः॥५॥भार्याया वचनं श्रुत्वा विश्वकर्मा प्रभाकरम्। शाणतस्तं स्वल्पप्रभं चक्रे सकरदीधितम्॥६॥माता के द्वारा पूछे जाने पर कन्या ने कहा, 'हे माता! सूर्य की तीक्ष्ण किरणों के कारण मेरे लिए पति के समीप जाना कठिन हो गया है'। पुत्री के वचन सुनकर माता ने अपने पति को बताया। अपनी भार्या के वचन सुनकर विश्वकर्मा ने अपने आरे से सूर्य की तीव्र किरणों को मंद कर दिया।

भानोच्छिन्नकरच्छायात्कन्या जाता सुवर्चला। ब्रह्मादयो लोकपालास्तत्सौन्दर्याद्विसिष्मिरे॥७॥सूर्य की मंद किरणों की छाया से सुवर्चला नाम की कन्या का जन्म हुआ। ब्रह्मा आदि लोकपाल उसके सौन्दर्य से विस्मित हो गए।

ब्रह्माणं परिपप्रच्छुर्देवा इंद्रपुरोगमाः। एनां धृत्वा पतिः को वा भूयाद्ब्रह्मन्वदस्व नः॥८॥इन्द्र आदि देवताओं ने उस कन्या को उठाकर ब्रह्मा से पूछा, 'हे ब्रह्मन्! इसका पति कौन होगा, हमें बतायें'।

ब्रह्मोवाचईश्वरस्य महत्तेजो हनुमान्दिवि भास्करम्। फलबुध्यातु गृह्णीयात्तस्य भार्या भविष्यति॥९॥ब्रह्मा बोलेईश्वर का महातेज हनुमान, आकाश में सूर्य को फल समझेंगें और उसे पकडेंगे। यह उनकी भार्या होगी।

राक्षसैः पीडिता देवा ब्रह्माणं शरणं ययुः। बाधन्ते राक्षसा नित्यं ब्रह्मन्लोकानृषींश्च नः॥१०॥तेषां कुरु वधोपायस्त्वं हि नः परमागतिः॥११॥राक्षसों के द्वारा पीड़ित देवतागण ब्रह्मा की शरण में गए। (उन्होंने ब्रह्मा से कहा) हे ब्रह्मन्! राक्षसगण नित्य लोगों को, ऋषियों को और हमें कष्ट दे रहे हैं। उनके वध का उपाय करें। आप ही हमारा परम आश्रय हैं।

इत्युक्तः त्राहतान्देवान्मया न ज्ञायते वधः। शंकरं परिपृच्छामो गच्छामो रजताचलम्॥१२॥ऐसा कहे जाने पर ब्रह्मा ने त्रासित देवताओं से कहा, 'राक्षसों के वध का उपाय मुझसे नहीं जाना जा रहा। हम सब कैलाश जायेंगे और शंकर से पूछेंगे।'

तत्र गत्वा महादेवमूचुस्ते सपितामहाः। राक्षसानां वधोपायं कुरु रुद्र महाप्रभो॥१३॥वहाँ जाकर पितामह सहित उन देवताओं ने महादेव से कहा, 'हे रुद्र! हे महाप्रभो! राक्षसों के वध का उपाय करें।'

शंकर उवाचनरनारायणं देवमार्तानां च परायणम्। तिष्ठंतं परमक्षेत्रे नित्यं बदरिकाश्रमे॥तं पृच्छामः सुरश्रेष्ठा गच्छामस्तत्र माचिरम्॥१४॥शंकर बोलेहे सुरश्रेष्ठों! परमक्षेत्र बदरिकाश्रम में नित्य निवास करने वाले, पीड़ितों के आश्रय देवाता नरनारायण को हम सब पूछेंगे। विना बिलम्ब के हम सब वहाँ जायेंगे।

ब्रह्मेशादिसुरास्सर्वे नरनारायणं प्रभुम्। नमस्कृत्य जगन्नाथं पप्रच्छुरिदमादरात्॥१५॥ब्रह्मा, शिव आदि सभी देवताओं ने जगन्नाथ नरनारायण प्रभु को नमस्कार करके आदरपूर्वक यह पूछा।

बाधन्ते राक्षसा नित्यं नरनारायण प्रभो। एतेषां तु वधोपायं क्षिप्रं कर्तुमिहार्हसि॥१६॥हे नरनारायण! हे प्रभो! राक्षसगण नित्य हमें कष्ट पहुँचा रहे हैं। आपको शीध्र ही इनके वध का उपाय करना चाहिए।

स मुहूर्तमिव ध्यात्वा प्रोवाच सकलान्सुरान्। भविष्यति न संदेहो राक्षसानां वधस्सुराः॥१७॥क्षणभर ध्यान करके उन्होंने सभी देवताओं से कहा, 'हे सुरगणों! राक्षसों का वध होगा, इसमें कोई संदेह नहीं है।'

इत्युक्त्वा स्वात्मनस्तेजस्समाकृष्य जनार्दनः। ब्रह्मणश्च सुराणां च तेजसा साकमीशितुः॥१८॥पिंडीकृत्य ददौ रुद्र पपौ सर्वामरात्मकम्।एसा कहकर जनार्दन ने अपने तेज को निकाला और ब्रह्म और देवताओं के तेज से, साथ ही शिव के भी तेज के साथ, उसका एक पिंड बनाकर दिया। शिव ने सभी देवताओं के तेज से निर्मित उस पिंड को पी लिया।

अथोवाच हरिर्व्यक्तिरेतत्तेजोद्भवस्सुराः॥१९॥हरं त्यक्त्वा सुरास्सर्वे गच्छतेति यथागतम्॥२०॥इसके पश्चात् विष्णु ने कहा, 'हे देवताओं! इस तेज से उत्पन्न व्यक्ति (सभी असुरों का वध करेगा)। शिव को छोड़कर सभी देवता जैसे आए थे वैसे ही लौट जाऐं।'

ततः काले महादेवः पर्यटन्पृथिवीमिमाम्। पार्वतीसहितश्श्रीमान्वेंकटाख्यं गिरिं गतः॥२१॥तत्पश्चात् कुछ समय बाद पृथिवी पर पर्यटन करते हुए महादेव, पार्वती के साथ, वेंकट नाम के पर्वत पर पहुँचे।

नित्यं सन्निहितो यत्र श्रीनिवासस्सतां गतिः। लभंते पौरुषानर्धान्यस्मिन्पंडितपामराः॥२२॥जहाँ सत्पुरुषों के आश्रय श्रीनिवास नित्य विद्यमान रहते हैं। जहाँ पंडित और पामर जन आधा पुरुषार्थ प्राप्त करते हैं।

तौ तत्र दंपती चैके शेषाख्ये चित्रकानने। शेरतुः परमामोदे निर्मलोदसरिद्वरे॥२३॥वह दो दंपती, शेष नाम के एक सुन्दर वन में, निर्मल जल से परिपूर्ण नदी के किनारे, परम प्रसन्नता के भाव में शयन कर रहे थे।

एकदा परमप्रीता पार्वती पतिदेवता। क्रीडंतं सुरतासक्तं कपियुग्मं ददर्श ह॥२४॥एक समय परम मुदित अवस्था में पति को देवता मानने वाली पार्वती ने रति में आसक्त, क्रीडा करते हुए बंदर के जोड़े को देखा।

ततस्सा ह्रीमती बाला महादेवस्य पश्यतः। पुष्पसांद्रेषु कुंजेषु तदा रंतुं मनोदधे॥२५॥तब महादेव के देखते हुए, लज्जा भाव से पार्वती ने घने पुष्पों के झाड़ में रमण करने का विचार बनाया।

सर्वज्ञस्तदभिप्रायं ज्ञात्वा स कपिरूपधृत्। रमयामास तां देवीं कपिरूपधरां शिवाम्॥२६॥सर्वज्ञ शंकर ने पार्वती का अभिप्राय जानकर कपि का रूप धारण किया और कपि रूप धारण कीं हुईं देवी पार्वती के साथ रमण किया।

सहस्राब्दप्रमाणेन क्रीडित्वा स महाद्युतिः। तत्तेजः पार्वतीगर्भे निधाय विरराम ह॥२७॥सहस्र वर्षों तक क्रीडा करके महातेजस्वी शंकर उस तेज को पार्वती के गर्भ में स्थापित करके रुक गए।

अग्नौ चिक्षेप तत्तेजः पार्वती धारणाक्षमा। स चाप्यशक्तस्तद्वायौ निक्षिपन्विससर्ज ह॥२८॥उस तेज को धारण करने मे अक्षम पार्वती ने उसे अग्नि में फेंक दिया। अग्नि ने भी अक्षम होकर उसे उपर की ओर फेंक कर वायु में विसर्जित कर दिया।

तस्मिन्केसरिणो भार्या कपिसाध्वी वरांगना। अंजनापुत्रमिच्छंती महाबलपराक्रमम्॥२९॥तपश्चचार सुमहन्नियतेंद्रियमानसा।उस समय केसरी की सुन्दर वानरसाध्वी पत्नी अंजना, महाबली और पराक्रमी पुत्र की इच्छा करती हुई अपने मन और इंद्रियों को नियमित कर महान तप कर रही थी।

तस्यै वायुः प्रसन्नात्मा प्रत्यहं फलमर्पयन्॥३०॥भक्षार्थमेकदा तस्यास्तत्तेजश्चार्पयत्करे। फलबुध्या तु तत्तेजस्साप्यभक्षयदंगना॥३१॥वायुदेव प्रसन्न होकर प्रतिदिवस आहार के लिए उसे फल दिया करते थे। एक बार उन्होंने वह तेज उसके हाथों में अर्पित किया। उस स्त्री ने उस तेज को फल समझकर खा लिया।

नाति दीर्घेण कालेन चांजना पतिदेवता। स्वांगेषु गर्भचिह्नानि सा दृष्ट्वा ह्रीमना ह्यभूत्॥३२॥थोड़े समय में ही, अपने पति को देवता मानने वाली अंजना, अपने शरीर में गर्भ के चिह्न देखकर लज्जित हो गईं।

विस्मयाविष्टचित्तां तां व्रतभंगविशंकिताम्। ध्यायन्तीं भयवित्रस्तामाभष्याहाशरीरिणी॥३३॥विस्मय भाव से परिपूर्ण, व्रत के भंग होने की शंका से अभिभूत, भय से विह्वल, ध्यान करती हुई अंजना को सम्बोधित कर अशरीर वाणी (आकाशवाणि) ने कहा।

माभूत्ते व्रतभंगोऽयं माविषीद वरानने। देवप्रसादात्ते गर्भे महाव्यक्तिर्भविष्यति॥३४॥हे वरानने! तुम्हारा यह व्रत भंग नहीं हुआ है। विषाद मत करो। ईश्वर की कृपा से तुम्हारे गर्भ में एक महापुरुष आयेगा।

एवमुक्ता तु सा देवी मुदा परमया युता॥३५॥एसा कहे जाने पर वह देवी अत्यंत प्रसन्न हुईं।

वैशाखे मासि कृष्णायां दशमी मंदसंयुता। पूर्वप्रोष्ठपदायुक्ता कथा वैधृतिसंयुता॥३६॥तस्यां मध्याह्नवेलायां जनयामास वै सुतम्।वैशाख मास में कृष्णपक्ष की दशमी को जब चन्द्रमा पूर्वप्रोष्ठ नक्षत्र में था उस दिन मध्याह्न समय पर अंजना ने पुत्र को जन्म दिया।

महाबलं महासत्वं विष्णुभक्तिपरायणम्॥३७॥सर्वदेवमयं वीरं ब्रह्मविष्णुशिवात्मकम्। वेदवेदान्ततत्त्वज्ञं सर्वविद्याविशारदम्॥३८॥सर्वब्रह्मविदां श्रेष्ठं सर्वदर्शनसम्मतम्।(वह बालक) महाबलशाली, बड़े शरीर का, विष्णु की भक्ति में परायाण, सभी देवताओं का अंश होने से सभी देवताओं के रूप वाला, वीर, ब्रह्माविष्णुशिवात्मक, वेद और वेदान्त को तत्त्व से जानने वाला, सभी विद्याओं मे विशारद, सभी ब्रह्मविदों में श्रेष्ठ एवं सभी दर्शनों का ज्ञाता था।

माणिक्यकुण्डलधरं दिव्यपट्टाम्बरान्वितम्॥३९॥कनकाचलसंकाशं पिंगाक्षं हेममालिनम्। स्वर्णयज्ञोपवीतं च मणिनूपुरशोभितम्॥४०॥ध्वजवज्रांशुकच्छत्रं पद्मरेखांघ्रिसंयुतम्। दीर्घलांगूलसहितं दीर्घकायं महाहनूम्॥४१॥(वह बालक) माणिक्य और कुण्डल धारण किये हुए, दिव्य वस्त्र पहने हुए, स्वर्ण पर्वत मेरु के समान आभा बाला, भूरि आँखों वाला, स्वर्ण माला पहने हुए, स्वर्ण यज्ञोपवीत धारण किये हुए, मणियों से जड़ित नूपुर पहने हुए, ध्वजा और चित्रित वस्त्र से बने छत्र के साथ, पैरों मे पद्मरेखा के साथ, लम्बी पूँछ के साथ, दीर्घ काया वाला और बड़ी हनू वाला था।

कौपीनं कटिसूत्राभ्यां विराजितं महाभुजम्। आश्चर्यभूतं लोकानां वज्रसंहननं कपिम्॥४२॥सर्वलक्षणसंपन्नं किरीटकनकांगदम्। प्रभयामितया विष्णोरवतारमिवादरम्॥४३॥(वह बालक) दो कटिसूत्र से बंधी हुई कौपीन से विराजित, दीर्घ भुजाओं वाला, वज्र के समान कठोर शरीर वाला, सभी लोगों को आश्चर्यचकित करने वाला, सभी लक्षणों से सम्पन्न, स्वर्ण मुकुट और अंगद के साथ, विष्णु के अवतार के समान अमित आभा से सम्पन्न वानर था।

पपात पुष्पवृष्टिश्च नेदुर्दुंदुभयो दिवि। ननृतुर्देवगंधर्वास्तुष्टुवुस्सिद्धचारणाः।ववौ वायुस्सुखस्पर्शस्सरितो निर्मलोदकाः ॥४४॥पुष्पों की वृशष्टि हुई, आकाश में दुंदुभियाँ बजीं, देवताओं और गंधर्वों ने नृत्य किया, सिद्धों और चारणों ने हनुमान की स्तुति की, सुखद वायु बही और नदियाँ निर्मल जल से परिपूर्ण हो गईं।

यदांजना केसरिधर्मपत्नी ह्यसूत बालं कपिसार्वभौमम्।प्रदक्षिणाकारशिखं मुनीनां तदैव वह्नित्रितयं विरेजे ॥४५॥जब केसरी की धर्मपत्नी अंजना ने सबपर राज करने वाले वानर पुत्र को जन्म दिया तब मुनियों की दक्षिण की ओर मुड़ी शिखाऐं विराजमान होने लगीं। उसी समय तीन प्रकार के यज्ञ भी होने लगे।

प्रसूति गंधानिलसंभृतेषु वनेषु मत्ता मकरंदनिर्झरैः।मिलिंदसंघा विचरंति सर्वतः सकोरकैः पल्लवितद्रुमेषु॥४६॥जन्म के उपरान्त, कमल और कमल की कोंपलों से आच्छादित नदियाँ, सुगंघ से भरी वायु और पुष्पित वृक्षों से भरे वनों में मत्त-भाव से भौंरों के संघ सभी जगह विचरण कर रहे थे।

पतंति रत्नानि सुरेतराणां किरीटकोटिग्रथितान्यकांडे।तदंगना मानसगह्वरेषु सगर्भकंपं भयमाविवेश॥४७॥असुरों के अनेक मुकुटों के साथ रत्न अचानक आकाश से गिर रहे थे। उसे देखकर अंजन के मन-मस्तिषक में भीतर तक कम्पित कर देने वाला भय भर गया।

ततः प्रोवाच तां बालश्चतुष्पंचदिनांतरे। अमायां मातरं दृष्ट्वा आहारो मे प्रदीयताम्॥४८॥चार-पाँच दिनों के बाद उस बालक ने माता को देखकर कहा कि मुझे आहार दिया जाए।

इत्युक्त्वा प्राह तं देवी लालयंती सुतं सती। सुपक्वं च फलं सूनो यत्रकुत्रापि भुज्यताम्॥४९॥एसा कहे जाने पर वह सती, पुत्र को लालयित करती हुई बोली, 'हे पुत्र! जहाँ-तहाँ कोई पका फल मिले उसे खा लो।'

आंजनेयः प्रहृष्टात्मा दिवमुपेत्य वेगतः। शिशुरुद्यंतमादित्यं फलबुध्या गृहीतवान्॥५०॥शिशु आंजनेय हृष्ट भाव से वेग से आकाश की ओर उड़े और उगते हुए सूर्य को फल समझकर उसे पकड़ लिया।

मुखेन गलितं भानुं दृष्ट्वा कोपात्पुरंदरः। चिंतयामास को न्वेष महासत्वः प्रदृश्यते॥५१॥उसके मुख में सूर्य को देखकत क्रोध से इन्द्र ने विचार किया के यह कोन महाशक्तिशाली दिख रहा है।

इति विस्मयमापन्नो वज्रमुद्यम्य वृत्रहा। बाले चिक्षेप रोषाच्च रोम्णा वज्रमपोधयत्॥५२॥इस प्रकार विस्मय से भरे इन्द्र ने वज्र उठाकर बालक पर क्रोध से फेंका। उस बालक ने अपनी पूँछ से वज्र को रोक दिया।

मोघं तत्कुलिशं दृष्ट्वा ब्रह्मणोऽस्त्रमयोजयत्। तच्चापि रोम्णा चिक्षेप विस्मिताश्चाभवन्सुराः॥५३॥उस वज्र को व्यर्थ देखकर इन्द्र ने ब्रह्मास्त्र का प्रयोग किया। उसे भी बालक ने पूँछ से पटक दिया। उह देखकर सभी देवता अत्यंत विस्मित हुए।

ततस्तं प्रार्थयांचक्रुः पितामहपुरोगमाः अंजनासुप्रजा वीर पार्वतीश्वरसंभवः।समर्थोऽसि महावीर महाबल पराक्रमः नराणां च सुराणां च ऋषीणां च हिताय वै॥५४॥जगत्प्राणकुमारस्त्वमवतीर्णोऽसि भूतले।तब पितामह को सामने रखकर सभी देवताओं ने बालक से प्रर्थना की, 'हे अंजना के सुपुत्र! हे वीर! तुम पार्वती और शिव के पुत्र हो। तुम समर्थ हो। हे महावीर! हे महाबल! मानवों, देवताओं और ऋषियों के हित के लिए तुम पृथिवी पर अवतीर्ण हुए हो। तुम पराक्रमी और जगत के प्राण वायु के पुत्र हो।'

सत्क्रिया न प्रवर्तते वेदोक्ताः क्रतवस्तथा।त्यज सूर्यमिति प्रोक्तस्स मुमोच प्रभाकरम्॥५५॥'सत्क्रियायें और वैदिक यज्ञ सूर्य के बिना सम्पन्न नहीं हो पा रहे हैं। अतः सूर्य को मुक्त कर दो।' एसा कहे जाने पर उसने सूर्य को मुक्त कर दिया।

एतदाश्चर्यमालोक्य कुलिशं मेघवाहनः।समर्थमपि चापल्यात्क्रीडासक्तं शिशुं कपिम्।हनौ च चिक्षेप वेगेन स पपात शिलातले॥५६॥इस आश्चर्य को देखकर इन्द्र ने, समर्थ होते हुए भी, चपलता से, वज्र को अतिवेग से क्रीडा में आसक्त बालक के हनु पर फेंक दिया। वह बालक शिला के तल पर गिर पड़ा।

मूर्छितं बालकं दृष्ट्वा वायुः परमकोपनः। प्राणास्सर्वशरीरेषु निगृह्य न चचाल ह॥५७॥बालक को मूर्छित देखकर वायुदेव परमक्रोध से भर गए और उन्होंने सभी प्राणियों के शरीर से प्राण वायु को खींचकर चलना बन्द कर दिया।

प्राणेषु निगृहितेषु न प्रवृत्ताः क्रियास्ततः। अचेतनवदत्यंतसंमूढमभवज्जगत्॥५८॥प्राण खिंच जाने पर सभी क्रियाएँ बन्द हो गईं। सम्पूरण जगत अचेतन और संमूढ हो गया।

ततो देवास्सगंधर्वाः सिद्धाश्च परमर्षयः। ब्रह्माविष्णुश्च शंभुश्च शक्रश्चापि समागताः॥५९॥तब गंधर्वों के साथ देवतागण, सिद्धगण, परम ऋषिगण, ब्रह्मा, विष्णु, शिव और इन्द्र एकत्रित हुए।

वरैस्तं छन्दयामासुर्वायुं विबुधदुर्लभैः दीर्घमायुबलं शौर्य आरोग्यं चाप्यधृष्यताम्।बुद्धिं विद्यास्तपस्तेजो वाक्पटुत्व प्रसन्नताम् चातुर्यं धैर्यवैराग्ये विष्णुभक्तिं कृपालुताम्।परनारीषु वैमुख्यमपचारसहिष्णुताम्॥६०॥अजेयत्वं च सर्वास्त्रैः सर्वैर्देवासुरैरपि।वायुपुत्र को विबुधों को भी जो दुर्लभ हैं, एसे वरदानों से आच्छादित कर दिया। दीर्घायु, बल, शौर्य, आरोग्य, पराजयहीनता, बुद्धि, विद्या, तप, तेज, वाक्पटुता, प्रसन्नता, चतुरता, धैर्य, वैराग्य, विष्णुभक्ति, कृपालुता, परनारी से विमुखता, अपचार सहन करने की क्षमता, सभी अस्त्रों और सभी देवताओं और असुरों से अजेयता।

एतानन्यांश्च कल्याणवरान्दत्वा ययुस्सुरा।ततस्तुष्टावांजनेयं ब्रह्मलोकपितामहः॥६१॥यह और अन्य कल्याणकारी वरदान देकर देवता लौट गए। तब पितामह नें आंजनेय की स्तुति की।

ब्रह्मोवाचसाक्षाद्विष्णुरिव श्रीमान्देवानुद्धारयिष्यसि। सर्वराक्षससंहारं करिष्यसि यथा हरः॥६२॥ब्रह्मा बोलेतुम साक्षात् श्रीमान् विष्णु की तरह देवताओं का उद्धार करोगे और शिव की तरह सभी राक्षसों का संघार करोगे।

लंकादैत्यवधं कृत्वा रामकार्यपरायणः। संजीवनाचलं नीत्वा लक्ष्मणं जीवयिष्यसि॥६३॥तुम राम का कार्य करने में परायण, लंका में राक्षसों का वध करके, संजीवनि औषधी वाले पर्वत को लाकर लक्ष्मण को जीवित करोगे।

सीताप्रवृत्तिमानीया रामं संतोषयिष्यसि त्वं बुद्धिमान्महाशूरो महाबलपराक्रमः।भवानजेयस्सर्वास्त्रैः तथापि प्रार्थनान्मम अंगीकार्यः त्वया वीर क्षणं ब्रह्मास्त्रबंधनम्॥६४॥तुम सीता की खबर लाकर राम को संतोष दोगे। तुम बुद्धिमान, महाशूरवीर, महाबली और पराक्रमी हो। तुम सभी अस्त्रों से अजेय हो फिर भी हे वीर! मेरी प्रार्थना से तुमहें क्षणभर के लिए ब्रह्मास्त्र का बंधन स्वीकार करना होगा।

महादेवप्रभावाद्धि रुद्रस्यामिततेजसः। तेजसोऽपि सुराणां त्वमैश्वरं तेज ऊर्जतम्॥६५॥महादेव के प्रभाव के कारन तुम रुद्र के अमित तेज हो। देवताओं के तेज के कारण तुम ईश्वरीय तेज और ऊर्जा से सम्पन्न हो।

पार्वतीगर्भसंभूतेः पार्वतीगर्भनामवान्। अग्निना धार्यमाणत्वादग्निगर्भो भवान्भवेत्॥६६॥पार्वती के गर्भ से जन्म लेने के कारन तुम पार्वतीगर्भ नाम वाले होगे। अग्नि के द्वारा धारित किये जाने के कारण तुम अग्निगर्भ होगे।

वायुप्रसादजननाद्वायुपुत्रो निगद्यसे। अंजनागर्भजननादांजनेयस्ततो भवान्॥६७॥वायुदेव की अनुकम्पा से जन्म प्राप्त करने के कारण वायु पुत्र कहे जाओगे। अंजना के गर्भ से जन्म लेने के कारण आंजनेय कहलाओगे।

केसरिक्षेत्रजन्यत्वात्पुत्रः केसरिणः कपेः। हनूवज्रप्रहाराद्धि हनुमानिति नाम ते॥६८॥केसरि के राज्य में जन्म लेने के कारण तुम वानर केसरी के पुत्र और हनु पर वज्र के प्रहार के कारण हनुमान नाम से जाने जाओगे।

ब्रह्मविष्णुशिवांशत्वात्त्रिमूर्तिरिति विश्रुतः। सर्वदेवांशसंभूतेः सर्वदेवमयः स्मृतः॥६९॥ब्रह्मा, विष्णु और शिव के अंश होने के कारण त्रिमूर्ति नाम से जाने जाओगे। सभी देवताओं के अंश से जन्म लेने के कारन सर्वदेवमय भी कहे जाओगे।

हनूमत्पूजया तस्मात्पूजिताः सर्वदेवताः। प्रतिग्रामनिवासश्च भूयाद्रक्षोनिवारणे॥७०॥इसलिए हनुमान की पूजा से सभी देवताओं की पूजा हो जाएगी। तुम्हारा राक्षस निवारण के लिए हर ग्राम मे निवास होगा।

इत्युक्त्वा लोकनाथोऽपि तत्रैवांतरधीयत॥७१॥एसा कहकर लोकनाथ भी वहीं पर अंतर्धान हो गए।

आंजनेयस्ततः काले ब्रह्मचर्यपरायणः समर्थोऽपि महातेजः संपश्यन्लोकसंग्रहम्।सूर्यमंडलमुपेत्य वेदाध्ययनकारणात् सप्रश्रयमुवाचेदं नमस्कृत्य दिवाकरम्॥७२॥तब, समय आने पर, ब्रह्मचर्य में परायण, महातेजस्वी, समर्थ होने पर भी लोककल्याण को ध्यान में रखकर, वेदों का ज्ञान प्राप्त करने के लिए सूर्यमंडल पहुँचे और आदरसहित सूर्यदेव को नमस्कार करके उनसे यह कहा।

सांगोपनिषदो वेदान्मम वक्तुं त्वमर्हसि। रविः प्रोवाचांजनेयमवकाशो न विद्यते।ईश्वरस्य वशे तिष्ठन्भ्रमामीह तदाज्ञया॥७३॥'आप वेद और उनके अंग उपनिष्दों को मुझे बताऐं।' सूर्यदेव बोले, 'मेरे पार अवकाश नहीं है। मैं ईश्वर के वश में रहकर उनकी आज्ञा से यहाँ भ्रमण करता हूँ।'

इत्युक्तो हनुमान्कोपान्निरुन्धे तस्य पद्धतिम्। त्वमेवोपाय वक्तेति सांत्वयामास तं रविः॥७४॥एसा कहे जाने पर हनुमान ने क्रोध में आकर सूर्यदेव का मार्ग रोक दिया। तुम ही उपाय बताओ, एसा कहकर सूर्यदेव ने उसे सांत्वना दी।

सूर्योन्मुखं पृष्ठगतो हनूमानेकवासरे। इंद्रव्याकरणं सूर्यात् धारयश्च महात्मनः॥७५॥सूर्यदेव के पीछे जाकर, उनके उन्मुख होकर महात्मन् हनुमान ने सूर्यदेव से एक दिन में इंद्रव्याकरण का ज्ञान धारण किया।

ततो हनूमानेकं स्वं पादं कृत्वोदयाचले अस्ताद्रावेक पादं च तिष्ठन्नभिमुखो रवेः।सांगोपनिषदो वेदानवाप्य कपिपुंगवः भास्करं तोषयामास सर्वविद्याविशारदः॥७६॥इसके बाद वानरवीर, सभी विद्याओं मे निपुण, हनुमान ने अपना एक पैर उदयाचल पर और एक पैर अस्ताचल पर रखकर, सूर्यदेव के अभिमुख होकर, उपनिषदों सहित वेदों का ज्ञान प्राप्त करके सूर्यदेव को प्रसन्न कर दिया।

तस्य बुद्धिं च विद्यां च बलशौर्यपराक्रमान्। विचार्य तस्मै प्रददौ स्वस्य कन्यां सुवर्चलाम्॥७७॥उसकी बुद्धि, विद्या, बल, शौर्य और पराक्रम पर विचार करके सूर्यदेव ने अपनी कन्या सुवर्चला को हनुमान को प्रदान किया।

तामुद्वह्य महातेजा हनुमान्मारुतात्मजः। भूयः किलाकिलां कुर्वन्पुनरायान्महाकपिः॥७८॥उससे विवाह करके महातेजस्वी मारुतात्मज हनुमान मुदित होकर लौट आए।

इदं हनूमच्चरितं ये शृण्वंति पठंति च। लिखंति पुस्तके वापि सर्वान्कामानवाप्नुयुः॥७९॥इस हनुमान के चरित को जो सुनते हैं, पढते हैं अथवा पुस्तक में लिखते हैं, वे सभी कामनाओं को प्राप्त करेंगे।

सुवर्चलासमेतश्रीहनुमद्द्वादशाक्षरम्। ये जपन्ति महात्मानः लभंते ते मनोरथान्॥८०॥सुवर्चला के साथ श्रीहनुमान के द्वादश अक्षर मंत्र को जो महात्मन् जपते हैं वे अपने मनोरथों को प्राप्त करते हैं।

जयंतीनामपूर्वोक्ता हनूमज्जन्मवासरः तस्यां भक्त्या कपिवरं नरा नियतमानसाः।जपंतश्चार्चयंतश्च पुष्पपाद्यार्घ्यचंदनैः धूपैर्दीपैश्च नैवेद्यैः फलैर्ब्राह्मणभोजनैः।समंत्रार्घ्यप्रदानैश्च नृत्यगीतैस्तथैव च तस्मान्मनोरथान्सर्वान्लभंते नात्र संशयः॥८१॥हनुमान के जन्म का दिन पहले जयंती नाम से बताया गया है। उस दिन भक्तिपूर्वक, मन को वश मे करके, पुष्प, अर्घ्य चंदन से, धूप, दीप से, नैवेद्य से, फलों से, ब्रह्मणों को भोजन कराने से, मंत्रपूर्वक अर्घ्य प्रदान करने से तथ नृत्यगीता आदि से कपिश्रेष्ठ का जप, अर्चना करते हुए मनुष्य सभी मनोरथों को प्राप्त करते हैं, इसमें कोई संशय नहीं है।

एको देवस्सर्वदश्श्रीहनूमान् एको मन्त्रश्श्रीहनूमत्प्रकाशः।एका मूर्तिश्श्रीहनूमत्स्वरूपा चैकं कर्म श्रीहनूमत्सपर्या॥८२॥हमेशा एक ही देवता हैं - हनुमान, एक ही मंत्र है - हनूमत्प्रकाशक मंत्र, एक ही मूर्ति है - हनुमान स्वरूप की, और एक ही कर्म है - हनुमान की पूजा।

जलाधीना कृषिस्सर्वा भक्त्याधीनं तु दैवतम्।सर्वहनूमतोऽधीनमिति मे निश्चिता मतिः॥८३॥पूरी कृषि जल के आधीन है, देवता भक्ति के आधीन हैं, सबकुछ हनुमान के आधीन है, ऐसा मेरा निश्चित मत है।

हनूमान्कल्पवृक्षो मे हनूमान्मम कामधुक्।चिन्तामणिस्तु हनुमान्को विचारः कुतो भयम्॥८४॥हनुमान मेरे कल्पवृक्ष हैं, हनुमान मेरी कामधेनु हैं, हनुमान मेरी चिंतामणि हैं, इसमें विचार करने का क्या है, भय कहाँ है?

-अथ पूजान्ते अर्घ्यप्रदानं कर्तव्यम्--अब पूजा के अंत मे अर्घ्य प्रदान करना चाहिए-

दशम्यां मंदयुक्तायां कृष्णायां मासि माधवे। पूर्वाभाद्राख्यनक्षत्रे वैधृतौ हनुभानभूत्॥८५॥(श्रीसुवर्चलासमेतहनुमते नम इदमर्घ्यं समर्पयामि)माधव मास के कृष्ण पक्ष की दशमी पर, पूर्वभद्र नक्षत्र में, वैधृती योग में हनुमान हुए।(श्री सुवर्चला समेत हनुमान को नमस्कार यह अर्ध्य समर्पित कर रहा हूँ)

जातः कपिकुलांभोधौ स्वर्णरभावनाश्रयः। भक्तसंरक्षणार्थाय गृहणार्घ्य नमोस्तु ते॥८६॥(श्रीसुवर्चलासमेतहनुमते नम इदमर्घ्यं समर्पयामि)वानरकुल के सागर में भक्तों के रक्षण के लिए जन्मे (आप को) नमस्कार हो। इस अर्घ्य को स्वीकार करें।(श्री सुवर्चला समेत हनुमान को नमस्कार यह अर्ध्य समर्पित कर रहा हूँ)

दुष्टानां शिक्षणार्थाय शिष्टानां रक्षणाय च। रामकार्यार्थसिद्ध्यर्थं जातः श्रीहनुमान्कपिः॥८७॥(श्रीसुवर्चलासमेतहनुमते नम इदमर्घ्यं समर्पयामि)दुष्टों को शिक्षा देने के लिए और शिष्टों की रक्षा के लिए, रामकार्य की सिद्धि के लिए वानर श्री हनुमान जन्मे।(श्री सुवर्चला समेत हनुमान को नमस्कार यह अर्ध्य समर्पित कर रहा हूँ)

अंजनागर्भसंभूतः हनूमान्पवनात्मज। गृहाणर्घ्य मया दत्तं कपिवर्य नमोस्तु ते॥८८॥(श्रीसुवर्चलासमेतहनुमते नम इदमर्घ्यं समर्पयामि)अंजना के गर्भ से जन्मे, हनुमान, पवन के आत्मज, मेरे द्वारा दिया अर्घ्य स्वीकारें। हे कपिवर्य! आपको नमस्कार हो।(श्री सुवर्चला समेत हनुमान को नमस्कार यह अर्ध्य समर्पित कर रहा हूँ)

पूर्वभाद्राकुम्भराशौ मध्याह्ने कर्कटांशके। कौण्डिन्यवंशे संजातो हनुमानंजनोद्भवः॥८९॥(श्रीसुवर्चलासमेतहनुमते नम इदमर्घ्यं समर्पयामि)अंजना के पुत्र हनुमान कुम्भ राशी के पूर्वभाद्रा नक्षत्र के कर्कट अंश में मध्याह्न के समय पर कौण्डिन्य वंश में जन्मे।(श्री सुवर्चला समेत हनुमान को नमस्कार यह अर्ध्य समर्पित कर रहा हूँ)

मन्त्रम्श्रीशब्दाद्धहनुमच्छब्दो जयशब्दस्ततः परं हनुमान्जयशब्दं हि संपुटीकरणं परः।जयद्वयावधिश्चोर्ध्वँ हनुमन्नाम वै ततः मंत्रोऽयं षोडशार्णस्तु महापातकनाशकः॥९०॥मन्त्र'श्री' शब्द के बाद 'हनुमत्' शब्द उसके बाद 'जय' शब्द इसके बाद 'हनुमान्' शब्द इसके बाद दो बार 'जय' शब्द और इसके बाद 'हनुमत्' नाम - यह सोलह अक्षर का मन्त्र पाप का महानाशक है।

॥इति हनुमज्जन्मकथनं नाम षष्ठः पटलः॥

पवनपुत्र मकरध्वज

                                     ॐ श्री रुद्ररूपाय  श्री महागणेशाय नमः

पवनपुत्र मकरध्वज की कथा पवनपुत्र हनुमान बाल-ब्रह्मचारी थे। लेकिन मकरध्वज को उनका पुत्र कहा जाता है। यह कथा उसी मकरध्वज की है। वाल्मीकि रामायण के अनुसार, लंका जलाते समय आग की तपिश के कारण हनुमानजी को बहुत पसीना आ रहा था। इसलिए लंका दहन के बाद जब उन्होंने अपनी पूँछ में लगी आग को बुझाने के लिए समुद्र में छलाँग लगाई तो उनके शरीर से पसीने के एक बड़ी-सी बूँद समुद्र में गिर पड़ी। उस समय एक बड़ी मछली ने भोजन समझ वह बूँद निगल ली। उसके उदर में जाकर वह बूँद एक शरीर में बदल गई।

एक दिन पाताल के असुरराज अहिरावण के सेवकों ने उस मछली को पकड़ लिया। जब वे उसका पेट चीर रहे थे तो उसमें से वानर की आकृति का एक मनुष्य निकला। वे उसे अहिरावण के पास ले गए। अहिरावण ने उसे पाताल पुरी का रक्षक नियुक्त कर दिया। यही वानर हनुमान पुत्र ‘मकरध्वज’ के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

जब राम-रावण युद्ध हो रहा था, तब रावण की आज्ञानुसार अहिरावण राम-लक्ष्मण का अपहरण कर उन्हें पाताल पुरी ले गया। उनके अपहरण से वानर सेना भयभीत व शोकाकुल हो गयी। लेकिन विभीषण ने यह भेद हनुमान के समक्ष प्रकट कर दिया। तब राम-लक्ष्मण की सहायता के लिए हनुमानजी पाताल पुरी पहुँचे।

जब उन्होंने पाताल के द्वार पर एक वानर को देखा तो वे आश्चर्यचकित हो गए। उन्होंने मकरध्वज से उसका परिचय पूछा। मकरध्वज अपना परिचय देते हुआ बोला-“मैं हनुमान पुत्र मकरध्वज हूं और पातालपुरी का द्वारपाल हूँ।”

मकरध्वज की बात सुनकर हनुमान क्रोधित होकर बोले- “यह तुम क्या कह रहे हो? दुष्ट! मैं बाल ब्रह्मचारी हूँ। फिर भला तुम मेरे पुत्र कैसे हो सकते हो?” हनुमान का परिचय पाते ही मकरध्वज उनके चरणों में गिर गया और उन्हें प्रणाम कर अपनी उत्पत्ति की कथा सुनाई। हनुमानजी ने भी मान लिया कि वह उनका ही पुत्र है।

लेकिन यह कहकर कि वे अभी अपने श्रीराम और लक्ष्मण को लेने आए हैं, जैसे ही द्वार की ओर बढ़े वैसे ही मकरध्वज उनका मार्ग रोकते हुए बोला- “पिताश्री! यह सत्य है कि मैं आपका पुत्र हूँ लेकिन अभी मैं अपने स्वामी की सेवा में हूँ। इसलिए आप अन्दर नहीं जा सकते।”

हनुमान ने मकरध्वज को अनेक प्रकार से समझाने का प्रयास किया, किंतु वह द्वार से नहीं हटा। तब दोनों में घोर य़ुद्ध शुरु हो गया। देखते-ही-देखते हनुमानजी उसे अपनी पूँछ में बाँधकर पाताल में प्रवेश कर गए। हनुमान सीधे देवी मंदिर में पहुँचे जहाँ अहिरावण राम-लक्ष्मण की बलि देने वाला था। हनुमानजी को देखकर चामुंडा देवी पाताल लोक से प्रस्थान कर गईं। तब हनुमानजी देवी-रूप धारण करके वहाँ स्थापित हो गए।

कुछ देर के बाद अहिरावण वहाँ आया और पूजा अर्चना करके जैसे ही उसने राम-लक्ष्मण की बलि देने के लिए तलवार उठाई, वैसे ही भयंकर गर्जन करते हुए हनुमानजी प्रकट हो गए और उसी तलवार से अहिरावण का वध कर दिया।

उन्होंने राम-लक्ष्मण को बंधन मुक्त किया। तब श्रीराम ने पूछा-“हनुमान! तुम्हारी पूँछ में यह कौन बँधा है? बिल्कुल तुम्हारे समान ही लग रहा है। इसे खोल दो।” हनुमान ने मकरध्वज का परिचय देकर उसे बंधन मुक्त कर दिया। मकरध्वज ने श्रीराम के समक्ष सिर झुका लिया। तब श्रीराम ने मकरध्वज का राज्याभिषेक कर उसे पाताल का राजा घोषित कर दिया और कहा कि भविष्य में वह अपने पिता के समान दूसरों की सेवा करे।

यह सुनकर मकरध्वज ने तीनों को प्रणाम किया। तीनों उसे आशीर्वाद देकर वहाँ से प्रस्थान कर गए। इस प्रकार मकरध्वज हनुमान पुत्र कहलाए

मीडिया हिन्दू-विरोधी क्यों है, इसका जवाब इन रिश्तों में

पहले इन रिश्तेदारियों पर एक नज़र डालिये, तब आप खुद ही समझ जायेंगे कि कैसे और क्यों “मीडिया का अधिकांश हिस्सा” हिन्दुओं और हिन्दुत्व का विरोधी है, किस प्रकार इन लोगों ने एक “नापाक गठजोड़” तैयार कर लिया है, किस तरह ये सब लोग मिलकर सत्ता संस्थान के शिखरों के करीब रहते हैं, किस तरह से इन प्रभावशाली(?) लोगों का सरकारी नीतियों में दखल होता है… आदि।
पेश हैं रिश्ते ही रिश्ते – (दिल्ली की दीवारों पर लिखा होता है वैसे वाले नहीं, ये हैं असली रिश्ते)
-सुज़ाना अरुंधती रॉय, प्रणव रॉय (नेहरु डायनेस्टी टीवी- NDTV) की भांजी हैं।-प्रणव रॉय “काउंसिल ऑन फ़ॉरेन रिलेशन्स” के इंटरनेशनल सलाहकार बोर्ड के सदस्य हैं।-इसी बोर्ड के एक अन्य सदस्य हैं मुकेश अम्बानी।-प्रणव रॉय की पत्नी हैं राधिका रॉय।-राधिका रॉय, बृन्दा करात की बहन हैं।-बृन्दा करात, प्रकाश करात (CPI) की पत्नी हैं।
-प्रकाश करात चेन्नै के “डिबेटिंग क्लब” के सदस्य थे।-एन राम, पी चिदम्बरम और मैथिली शिवरामन भी इस ग्रुप के सदस्य थे।-इस ग्रुप ने एक पत्रिका शुरु की थी “रैडिकल रीव्यू”।-CPI(M) के एक वरिष्ठ नेता सीताराम येचुरी की पत्नी हैं सीमा चिश्ती।-सीमा चिश्ती इंडियन एक्सप्रेस की “रेजिडेण्ट एडीटर” हैं।-बरखा दत्त NDTV में काम करती हैं।-बरखा दत्त की माँ हैं श्रीमती प्रभा दत्त।-प्रभा दत्त हिन्दुस्तान टाइम्स की मुख्य रिपोर्टर थीं।-राजदीप सरदेसाई पहले NDTV में थे, अब CNN-IBN के हैं (दोनों ही मुस्लिम चैनल हैं)।-राजदीप सरदेसाई की पत्नी हैं सागरिका घोष।-सागरिका घोष के पिता हैं दूरदर्शन के पूर्व महानिदेशक भास्कर घोष।-सागरिका घोष की आंटी रूमा पॉल हैं।-रूमा पॉल उच्चतम न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश हैं।-सागरिका घोष की दूसरी आंटी अरुंधती घोष हैं।-अरुंधती घोष संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थाई प्रतिनिधि हैं।-CNN-IBN का “ग्लोबल बिजनेस नेटवर्क” (GBN) से व्यावसायिक समझौता है।-GBN टर्नर इंटरनेशनल और नेटवर्क-18 की एक कम्पनी है।-NDTV भारत का एकमात्र चैनल है को “अधिकृत रूप से” पाकिस्तान में दिखाया जाता है।-दिलीप डिसूज़ा PIPFD (Pakistan-India Peoples’ Forum for Peace and Democracy) के सदस्य हैं।-दिलीप डिसूज़ा के पिता हैं जोसेफ़ बेन डिसूज़ा।-जोसेफ़ बेन डिसूज़ा महाराष्ट्र सरकार के पूर्व सचिव रह चुके हैं।
-तीस्ता सीतलवाड भी PIPFD की सदस्य हैं।-तीस्ता सीतलवाड के पति हैं जावेद आनन्द।-जावेद आनन्द एक कम्पनी सबरंग कम्युनिकेशन और एक संस्था “मुस्लिम फ़ॉर सेकुलर डेमोक्रेसी” चलाते हैं।-इस संस्था के प्रवक्ता हैं जावेद अख्तर।-जावेद अख्तर की पत्नी हैं शबाना आज़मी।
-करण थापर ITV के मालिक हैं।-ITV बीबीसी के लिये कार्यक्रमों का भी निर्माण करती है।-करण थापर के पिता थे जनरल प्राणनाथ थापर (1962 का चीन युद्ध इन्हीं के नेतृत्व में हारा गया था)।-करण थापर बेनज़ीर भुट्टो और ज़रदारी के बहुत अच्छे मित्र हैं।-करण थापर के मामा की शादी नयनतारा सहगल से हुई है।-नयनतारा सहगल, विजयलक्ष्मी पंडित की बेटी हैं।-विजयलक्ष्मी पंडित, जवाहरलाल नेहरू की बहन हैं।
-मेधा पाटकर नर्मदा बचाओ आन्दोलन की मुख्य प्रवक्ता और कार्यकर्ता हैं।-नबाआं को मदद मिलती है पैट्रिक मेकुल्ली से जो कि “इंटरनेशनल रिवर्स नेटवर्क (IRN)” संगठन में हैं।-अंगना चटर्जी IRN की बोर्ड सदस्या हैं।-अंगना चटर्जी PROXSA (Progressive South Asian Exchange Network) की भी सदस्या हैं।-PROXSA संस्था, FOIL (Friends of Indian Leftist) से पैसा पाती है।-अंगना चटर्जी के पति हैं रिचर्ड शेपायरो।-FOIL के सह-संस्थापक हैं अमेरिकी वामपंथी बिजू मैथ्यू।-राहुल बोस (अभिनेता) खालिद अंसारी के रिश्ते में हैं।-खालिद अंसारी “मिड-डे” पब्लिकेशन के अध्यक्ष हैं।-खालिद अंसारी एमसी मीडिया लिमिटेड के भी अध्यक्ष हैं।-खालिद अंसारी, अब्दुल हमीद अंसारी के पिता हैं।-अब्दुल हमीद अंसारी कांग्रेसी हैं।-एवेंजेलिस्ट ईसाई और हिन्दुओं के खास आलोचक जॉन दयाल मिड-डे के दिल्ली संस्करण के प्रभारी हैं।
-नरसिम्हन राम (यानी एन राम) दक्षिण के प्रसिद्ध अखबार “द हिन्दू” के मुख्य सम्पादक हैं।-एन राम की पहली पत्नी का नाम है सूसन।-सूसन एक आयरिश हैं जो भारत में ऑक्सफ़ोर्ड पब्लिकेशन की इंचार्ज हैं।-विद्या राम, एन राम की पुत्री हैं, वे भी एक पत्रकार हैं।-एन राम की हालिया पत्नी मरियम हैं।-त्रिचूर में आयोजित कैथोलिक बिशपों की एक मीटिंग में एन राम, जेनिफ़र अरुल और केएम रॉय ने भाग लिया है।-जेनिफ़र अरुल, NDTV की दक्षिण भारत की प्रभारी हैं।-जबकि केएम रॉय “द हिन्दू” के संवाददाता हैं।-केएम रॉय “मंगलम” पब्लिकेशन के सम्पादक मंडल सदस्य भी हैं।-मंगलम ग्रुप पब्लिकेशन एमसी वर्गीज़ ने शुरु किया है।-केएम रॉय को “ऑल इंडिया कैथोलिक यूनियन लाइफ़टाइम अवार्ड” से सम्मानित किया गया है।-“ऑल इंडिया कैथोलिक यूनियन” के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं जॉन दयाल।-जॉन दयाल “ऑल इंडिया क्रिश्चियन काउंसिल”(AICC) के सचिव भी हैं।-AICC के अध्यक्ष हैं डॉ जोसेफ़ डिसूज़ा।-जोसेफ़ डिसूज़ा ने “दलित फ़्रीडम नेटवर्क” की स्थापना की है।-दलित फ़्रीडम नेटवर्क की सहयोगी संस्था है “ऑपरेशन मोबिलाइज़ेशन इंडिया” (OM India)।-OM India के दक्षिण भारत प्रभारी हैं कुमार स्वामी।-कुमार स्वामी कर्नाटक राज्य के मानवाधिकार आयोग के सदस्य भी हैं।-OM India के उत्तर भारत प्रभारी हैं मोजेस परमार।-OM India का लक्ष्य दुनिया के उन हिस्सों में चर्च को मजबूत करना है, जहाँ वे अब तक नहीं पहुँचे हैं।-OMCC दलित फ़्रीडम नेटवर्क (DFN) के साथ काम करती है।-DFN के सलाहकार मण्डल में विलियम आर्मस्ट्रांग शामिल हैं।-विलियम आर्मस्ट्रांग, कोलोरेडो (अमेरिका) के पूर्व सीनेटर हैं और वर्तमान में कोलोरेडो क्रिश्चियन यूनिवर्सिटी के प्रेसीडेण्ट हैं। यह यूनिवर्सिटी विश्व भर में ईसा के प्रचार हेतु मुख्य रणनीतिकारों में शुमार की जाती है।-DFN के सलाहकार मंडल में उदित राज भी शामिल हैं।-उदित राज के जोसेफ़ पिट्स के अच्छे मित्र भी हैं।-जोसेफ़ पिट्स ने ही नरेन्द्र मोदी को वीज़ा न देने के लिये कोंडोलीज़ा राइस से कहा था।-जोसेफ़ पिट्स “कश्मीर फ़ोरम” के संस्थापक भी हैं।-उदित राज भारत सरकार के नेशनल इंटीग्रेशन काउंसिल (राष्ट्रीय एकता परिषद) के सदस्य भी हैं।-उदित राज कश्मीर पर बनी एक अन्तर्राष्ट्रीय समिति के सदस्य भी हैं।-सुहासिनी हैदर, सुब्रह्मण्यम स्वामी की पुत्री हैं।-सुहासिनी हैदर, सलमान हैदर की पुत्रवधू हैं।-सलमान हैदर, भारत के पूर्व विदेश सचिव रह चुके हैं, चीन में राजदूत भी रह चुके हैं।
-रामोजी ग्रुप के मुखिया हैं रामोजी राव।-रामोजी राव “ईनाडु” (सर्वाधिक खपत वाला तेलुगू अखबार) के संस्थापक हैं।-रामोजी राव ईटीवी के भी मालिक हैं।-रामोजी राव चन्द्रबाबू नायडू के परम मित्रों में से हैं।
-डेक्कन क्रॉनिकल के चेयरमैन हैं टी वेंकटरमन रेड्डी।-रेड्डी साहब कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सदस्य हैं।-एमजे अकबर डेक्कन क्रॉनिकल और एशियन एज के सम्पादक हैं।-एमजे अकबर कांग्रेस विधायक भी रह चुके हैं।-एमजे अकबर की पत्नी हैं मल्लिका जोसेफ़।-मल्लिका जोसेफ़, टाइम्स ऑफ़ इंडिया में कार्यरत हैं।
-वाय सेमुअल राजशेखर रेड्डी आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री हैं।-सेमुअल रेड्डी के पिता राजा रेड्डी ने पुलिवेन्दुला में एक डिग्री कालेज व एक पोलीटेक्नीक कालेज की स्थापना की।-सेमुअल रेड्डी ने कहा है कि आंध्रा लोयोला कॉलेज में पढ़ाई के दौरान वे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उक्त दोनों कॉलेज लोयोला समूह को दान में दे दिये।-सेमुअल रेड्डी की बेटी हैं शर्मिला।-शर्मिला की शादी हुई है “अनिल कुमार” से। अनिल कुमार भी एक धर्म-परिवर्तित ईसाई हैं जिन्होंने “अनिल वर्ल्ड एवेंजेलिज़्म” नामक संस्था शुरु की और वे एक सक्रिय एवेंजेलिस्ट (कट्टर ईसाई धर्म प्रचारक) हैं।-सेमुअल रेड्डी के पुत्र जगन रेड्डी युवा कांग्रेस नेता हैं।-जगन रेड्डी “जगति पब्लिकेशन प्रा. लि.” के चेयरमैन हैं।-भूमना करुणाकरा रेड्डी, सेमुअल रेड्डी की करीबी हैं।-करुणाकरा रेड्डी, तिरुमला तिरुपति देवस्थानम की चेयरमैन हैं।-चन्द्रबाबू नायडू ने आरोप लगाया था कि “लैंको समूह” को जगति पब्लिकेशन्स में निवेश करने हेतु दबाव डाला गया था।-लैंको कम्पनी समूह, एल श्रीधर का है।-एल श्रीधर, एल राजगोपाल के भाई हैं।-एल राजगोपाल, पी उपेन्द्र के दामाद हैं।-पी उपेन्द्र केन्द्र में कांग्रेस के मंत्री रह चुके हैं।-सन टीवी चैनल समूह के मालिक हैं कलानिधि मारन-कलानिधि मारन एक तमिल दैनिक “दिनाकरन” के भी मालिक हैं।-कलानिधि के भाई हैं दयानिधि मारन।-दयानिधि मारन केन्द्र में संचार मंत्री थे।-कलानिधि मारन के पिता थे मुरासोली मारन।-मुरासोली मारन के चाचा हैं एम करुणानिधि (तमिलनाडु के मुख्यमंत्री)।-करुणानिधि ने ‘कैलाग्नार टीवी” का उदघाटन किया।-कैलाग्नार टीवी के मालिक हैं एम के अझागिरी।-एम के अझागिरी, करुणानिधि के पुत्र हैं।-करुणानिधि के एक और पुत्र हैं एम के स्टालिन।-स्टालिन का नामकरण रूस के नेता के नाम पर किया गया।-कनिमोझि, करुणानिधि की पुत्री हैं, और केन्द्र में राज्यमंत्री हैं।-कनिमोझी, “द हिन्दू” अखबार में सह-सम्पादक भी हैं।-कनिमोझी के दूसरे पति जी अरविन्दन सिंगापुर के एक जाने-माने व्यक्ति हैं।-स्टार विजय एक तमिल चैनल है।-विजय टीवी को स्टार टीवी ने खरीद लिया है।-स्टार टीवी के मालिक हैं रूपर्ट मर्डोक।
-Act Now for Harmony and Democracy (अनहद) की संस्थापक और ट्रस्टी हैं शबनम हाशमी।-शबनम हाशमी, गौहर रज़ा की पत्नी हैं।-“अनहद” के एक और संस्थापक हैं के एम पणिक्कर।-के एम पणिक्कर एक मार्क्सवादी इतिहासकार हैं, जो कई साल तक ICHR में काबिज रहे।-पणिक्कर को पद्मभूषण भी मिला।-हर्ष मन्दर भी “अनहद” के संस्थापक हैं।-हर्ष मन्दर एक मानवाधिकार कार्यकर्ता हैं।-हर्ष मन्दर, अजीत जोगी के खास मित्र हैं।-अजीत जोगी, सोनिया गाँधी के खास हैं क्योंकि वे ईसाई हैं और इन्हीं की अगुआई में छत्तीसगढ़ में जोरशोर से धर्म-परिवर्तन करवाया गया और बाद में दिलीपसिंह जूदेव ने परिवर्तित आदिवासियों की हिन्दू धर्म में वापसी करवाई।-कमला भसीन भी “अनहद” की संस्थापक सदस्य हैं।-फ़िल्मकार सईद अख्तर मिर्ज़ा “अनहद” के ट्रस्टी हैं।
-मलयालम दैनिक “मातृभूमि” के मालिक हैं एमपी वीरेन्द्रकुमार-वीरेन्द्रकुमार जद(से) के सांसद हैं (केरल से)-केरल में देवेगौड़ा की पार्टी लेफ़्ट फ़्रण्ट की साझीदार है।-शशि थरूर पूर्व राजनैयिक हैं।-चन्द्रन थरूर, शशि थरूर के पिता हैं, जो कोलकाता की आनन्दबाज़ार पत्रिका में संवाददाता थे।-चन्द्रन थरूर ने 1959 में द स्टेट्समैन” की अध्यक्षता की।-शशि थरूर के दो जुड़वाँ लड़के ईशान और कनिष्क हैं, ईशान हांगकांग में “टाइम्स” पत्रिका के लिये काम करते हैं।-कनिष्क लन्दन में “ओपन डेमोक्रेसी” नामक संस्था के लिये काम करते हैं।-शशि थरूर की बहन शोभा थरूर की बेटी रागिनी (अमेरिकी पत्रिका) “इंडिया करंट्स” की सम्पादक हैं।-परमेश्वर थरूर, शशि थरूर के चाचा हैं और वे “रीडर्स डाइजेस्ट” के भारत संस्करण के संस्थापक सदस्य हैं।
-शोभना भरतिया हिन्दुस्तान टाइम्स समूह की अध्यक्षा हैं।-शोभना भरतिया केके बिरला की पुत्री और जीड़ी बिरला की पोती हैं-शोभना राज्यसभा की सदस्या भी हैं जिन्हें सोनिया ने नामांकित किया था।-शोभना को 2005 में पद्मश्री भी मिल चुकी है।-शोभना भरतिया सिंधिया परिवार की भी नज़दीकी मित्र हैं।-करण थापर भी हिन्दुस्तान टाइम्स में कालम लिखते हैं।-पत्रकार एन राम की भतीजी की शादी दयानिधि मारन से हुई है।
यह बात साबित हो चुकी है कि मीडिया का एक खास वर्ग हिन्दुत्व का विरोधी है, इस वर्ग के लिये भाजपा-संघ के बारे में नकारात्मक प्रचार करना, हिन्दू धर्म, हिन्दू देवताओं, हिन्दू रीति-रिवाजों, हिन्दू साधु-सन्तों सभी की आलोचना करना एक “धर्म” के समान है। इसका कारण हैं, कम्युनिस्ट-चर्चपरस्त-मुस्लिमपरस्त-तथाकथित सेकुलरिज़्म परस्त लोगों की आपसी रिश्तेदारी, सत्ता और मीडिया पर पकड़ और उनके द्वारा एक “गैंग” बना लिया जाना। यदि कोई समूह या व्यक्ति इस गैंग के सदस्य बन जायें, प्रिय पात्र बन जायें तब उनके और उनकी बिरादरी के खिलाफ़ कोई खबर आसानी से नहीं छपती। जबकि हिन्दुत्व पर ये सब लोग मिलजुलकर हमला बोलते हैं।
(नोट – यह जानकारियाँ नेट पर उपलब्ध विभिन्न वेबसाईट्स, फ़ोरम आदि पर आधारित हैं, इसमें मेरा कोई योगदान नहीं है।)

इस्तांबुल लाइब्रेरी 'मकतब-ए-सुल्तानिया' के ग्रंथ “सायर-उल-ओकुल” पेज 315 पर राजा विक्रमादित्य से सम्बन्धित एक शिलालेख का उल्लेख

हाल ही में एक सेमिनार में प्रख्यात लेखिका कुसुमलता केडिया ने विभिन्न पश्चिमी पुस्तकों और शोधों के हवाले से यह तर्कसिद्ध किया कि विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में बहुत गहरे अन्तर्सम्बन्ध रहे हैं। पुस्तक “फ़िंगरप्रिंट्स ऑफ़ द गॉड – लेखक ग्राहम हैन्नोक” तथा एक अन्य पुस्तक “1434″ (लेखक – गेविन मेनजीस) का “रेफ़रेंस” देते हुए उन्होंने बताया कि पश्चिम के शोधकर्ताओं को “सभ्यताओं” सम्बन्धी खोज करते समय अंटार्कटिका क्षेत्र के नक्शे भी प्राप्त हुए हैं, जो कि बेहद कुशलता से तैयार किये गये थे, इसी प्रकार कई बेहद प्राचीन नक्शों में कहीं-कहीं चीन को “वृहत्तर भारत” का हिस्सा भी चित्रित किया गया है। अब इस सम्बन्ध में पश्चिमी लेखकों और शोधकर्ताओं में आम सहमति बनती जा रही है कि पृथ्वी पर मानव का अस्तित्व 12,000 वर्ष से भी पुराना है, और उस समय की कई सभ्यताएं पूर्ण विकसित थीं।
हालांकि “काबा एक शिव मन्दिर है”, इस लेखमाला का ऊपर उल्लेखित तथ्यों से कोई सम्बन्ध नहीं है, लेकिन जैसा कि केडिया जी ने कहा है कि विश्व का इतिहास जो हमें पढ़ाया जाता है या बताया जाता है अथवा दर्शाया जाता है, वह असल में ईसा पूर्व 4000 वर्ष का ही कालखण्ड है और Pre-Christianity काल को ही विश्व का इतिहास मानता है। लेकिन जब आर्कियोलॉजिस्ट और प्रागैतिहासिक काल के शोधकर्ता इस 4000 वर्ष से और पीछे जाकर खोजबीन करते हैं तब उन्हें कई आश्चर्यजनक बातें पता चलती हैं।

यह प्रश्न कई बार और कई जगहों पर पूछा गया है कि क्या मुस्लिमों का तीर्थ स्थल “काबा” एक हिन्दू मन्दिर है या था? इस बारे में काफ़ी लोगों को शक है कि आखिर काबा के बाहर चांदी की गोलाईदार फ़्रेम में जड़ा हुआ काला पत्थर क्या है? काबा में काले परदे से ढँकी हुई उस विशाल संरचना के भीतर क्या है? क्यों काबा के कुछ इलाके गैर-मुस्लिमों के लिये प्रतिबन्धित हैं? आखिर मुस्लिम काबा में परिक्रमा क्यों करते हैं? इन सवालों के जवाब में सबसे प्रामाणिक और ऐतिहासिक तथ्यों और सबूतों के साथ भारतीय इतिहासकार पीएन ओक तथा हिन्दू धर्म के प्रखर विद्वान अमेरिकी इतिहासकार स्टीफ़न नैप की साईटों पर कुछ सामग्री मिलती है। इतिहासकारों में पीएन ओक के निष्कर्षों को लेकर गहरे मतभेद हैं, लेकिन जैसे-जैसे नये-नये तथ्य, नक्शे और प्राचीन ग्रन्थों के सन्दर्भ सामने आते जा रहे हैं, हिन्दू वैदिक संस्कृति का प्रभाव समूचे पश्चिम एशिया और अरब देशों में था यह सिद्ध होता जायेगा। कम्बोडिया और इंडोनेशिया में पहले से मौजूद मंदिर तथा बामियान में ध्वस्त की गई बुद्ध की मूर्ति इस बात की ओर स्पष्ट संकेत तो करती ही है। हिन्दू संस्कृति के धुर-विरोधी इतिहासकार भी इस बात को तो मानते ही हैं कि इस्लाम के प्रादुर्भाव के पश्चात कई-कई मंदिरों और मूर्तियों को तोड़ा गया, लेकिन फ़िर भी संस्कृति की एक अन्तर्धारा सतत मौजूद रही जो कि विभिन्न परम्पराओं में दिखाई भी देती है।

पीएन ओक ने अपने एक विस्तृत लेख में इस बात पर बिन्दुवार चर्चा की है। पीएन ओक पहले सेना में कार्यरत थे और सेना की नौकरी छोड़कर उन्होंने प्राचीन भारत के इतिहास पर शोध किया और विभिन्न देशों में घूम-घूम कर कई प्रकार के लेख, शिलालेखों के नमूने, ताड़पत्र आदि का अध्ययन किया।

जब पीएन ओक ने इस सम्बन्ध में गहराई से छानबीन करने का निश्चय किया तो उन्हें कई चौंकाने वाली जानकारियाँ मिली। तुर्की के इस्ताम्बुल शहर की प्रसिद्ध लायब्रेरी मकतब-ए-सुल्तानिया में एक ऐतिहासिक ग्रन्थ है “सायर-उल-ओकुल”, उसके पेज 315 पर राजा विक्रमादित्य से सम्बन्धित एक शिलालेख का उल्लेख है, जिसमें कहा गया है कि “…वे लोग भाग्यशाली हैं जो उस समय जन्मे और राजा विक्रम के राज्य में जीवन व्यतीत किया, वह बहुत ही दयालु, उदार और कर्तव्यनिष्ठ शासक था जो हरे व्यक्ति के कल्याण के बारे में सोचता था। लेकिन हम अरब लोग भगवान से बेखबर अपने कामुक और इन्द्रिय आनन्द में खोये हुए थे, बड़े पैमाने पर अत्याचार करते थे, अज्ञानता का अंधकार हमारे चारों तरफ़ छाया हुआ था। जिस तरह एक भेड़ अपने जीवन के लिये भेड़िये से संघर्ष करती है, उसी प्रकार हम अरब लोग अज्ञानता से संघर्षरत थे, चारों ओर गहन अंधकार था। लेकिन विदेशी होने के बावजूद, शिक्षा की उजाले भरी सुबह के जो दर्शन हमें राजा विक्रमादित्य ने करवाये वे क्षण अविस्मरणीय थे। उसने अपने पवित्र धर्म को हमारे बीच फ़ैलाया, अपने देश के सूर्य से भी तेज विद्वानों को इस देश में भेजा ताकि शिक्षा का उजाला फ़ैल सके। इन विद्वानों और ज्ञाताओं ने हमें भगवान की उपस्थिति और सत्य के सही मार्ग के बारे में बताकर एक परोपकार किया है। ये तमाम विद्वान, राजा विक्रमादित्य के निर्देश पर अपने धर्म की शिक्षा देने यहाँ आये…”।
उस शिलालेख के अरेबिक शब्दों का रोमन लिपि में उल्लेख यहाँ किया जाना आवश्यक है…उस स्र्किप्ट के अनुसार, “…इट्राशाफ़ई सन्तु इबिक्रामतुल फ़ाहालामीन करीमुन यात्राफ़ीहा वायोसास्सारु बिहिल्लाहाया समाइनि एला मोताकाब्बेरेन सिहिल्लाहा युही किद मिन होवा यापाखारा फाज्जल असारी नाहोने ओसिरोम बायिआय्हालम। युन्दान ब्लाबिन कज़ान ब्लानाया सादुन्या कानातेफ़ नेतेफ़ि बेजेहालिन्। अतादारि बिलामासा-रतीन फ़ाकेफ़तासाबुहु कौन्निएज़ा माज़ेकाराल्हादा वालादोर। अश्मिमान बुरुकन्कद तोलुहो वातासारु हिहिला याकाजिबाय्माना बालाय कुल्क अमारेना फानेया जौनाबिलामारि बिक्रामातुम…” (पेज 315 साया-उल-ओकुल, जिसका मतलब होता है “यादगार शब्द”)। एक अरब लायब्रेरी में इस शिलालेख के उल्लेख से स्पष्ट है कि विक्रमादित्य का शासन या पहुँच अरब प्रायद्वीप तक निश्चित ही थी।

उपरिलिखित शिलालेख का गहन अध्ययन करने पर कुछ बातें स्वतः ही स्पष्ट होती हैं जैसे कि प्राचीन काल में विक्रमादित्य का साम्राज्य अरब देशों तक फ़ैला हुआ था और विक्रमादित्य ही वह पहला राजा था जिसने अरब में अपना परचम फ़हराया, क्योंकि उल्लिखित शिलालेख कहता है कि “राजा विक्रमादित्य ने हमें अज्ञान के अंधेरे से बाहर निकाला…” अर्थात उस समय जो भी उनका धर्म या विश्वास था, उसकी बजाय विक्रमादित्य के भेजे हुए विद्वानों ने वैदिक जीवन पद्धति का प्रचार तत्कालीन अरब देशों में किया। अरबों के लिये भारतीय कला और विज्ञान की सीख भारतीय संस्कृति द्वारा स्थापित स्कूलों, अकादमियों और विभिन्न सांस्कृतिक केन्द्रों के द्वारा मिली।
इस निष्कर्ष का सहायक निष्कर्ष इस प्रकार हैं कि दिल्ली स्थित कुतुब मीनार विक्रमादित्य के अरब देशों की विजय के जश्न को मनाने हेतु बनाया एक स्मारक भी हो सकता है। इसके पीछे दो मजबूत कारण हैं, पहला यह कि तथाकथित कुतुब-मीनार के पास स्थित लोहे के खम्भे पर शिलालेख दर्शाता है कि विजेता राजा विक्रमादित्य की शादी राजकुमारी बाल्हिका से हुई। यह “बाल्हिका” कोई और नहीं पश्चिम एशिया के बाल्ख क्षेत्र की राजकुमारी हो सकती है। ऐसा हो सकता है कि विक्रमादित्य द्वारा बाल्ख राजाओं पर विजय प्राप्त करने के बाद उन्होंने उनकी पुत्री का विवाह विक्रमादित्य से करवा दिया हो।

अथवा, दूसरा तथ्य यह कि कुतुब-मीनार के पास स्थित नगर “महरौली”, इस महरौली का नाम विक्रमादित्य के दरबार में प्रसिद्ध गणित ज्योतिषी मिहिरा के नाम पर रखा गया है। “महरौली” शब्द संस्कृत के शब्द “मिहिरा-अवली” से निकला हुआ है, जिसका अर्थ है “मिहिरा” एवं उसके सहायकों के लिये बनाये गये मकानों की श्रृंखला। इस प्रसिद्ध गणित ज्योतिषी को तारों और ग्रहों के अध्ययन के लिये इस टावर का निर्माण करवाया गया हो सकता है, जिसे कुतुब मीनार कहा जाता है।

अपनी खोज को दूर तक पहुँचाने के लिये अरब में मिले विक्रमादित्य के उल्लेख वाले शिलालेख के निहितार्थ को मिलाया जाये तो उस कहानी के बिखरे टुकड़े जोड़ने में मदद मिलती है कि आखिर यह शिलालेख मक्का के काबा में कैसे आया और टिका रहा? ऐसे कौन से अन्य सबूत हैं जिनसे यह पता चल सके कि एक कालखण्ड में अरब देश, भारतीय वैदिक संस्कृति के अनुयायी थे? और वह शान्ति और शिक्षा अरब में विक्रमादित्य के विद्बानों के साथ ही आई, जिसका उल्लेख शिलालेख में “अज्ञानता और उथलपुथल” के रूप में वर्णित है? इस्ताम्बुल स्थित प्रसिद्ध लायब्रेरी मखतब-ए-सुल्तानिया, जिसकी ख्याति पश्चिम एशिया के सबसे बड़े प्राचीन इतिहास और साहित्य का संग्रहालय के रूप में है। लायब्रेरी के अरेबिक खण्ड में प्राचीन अरबी कविताओं का भी विशाल संग्रह है। यह संकलन तुर्की के शासक सुल्तान सलीम के आदेशों के तहत शुरु किया गया था। उस ग्रन्थ के भाग “हरीर” पर लिखे हुए हैं जो कि एक प्रकार का रेशमी कपड़ा है। प्रत्येक पृष्ठ को एक सजावटी बॉर्डर से सजाया गया है। यही संकलन “साया-उल-ओकुल” के नाम से जाना जाता है जो कि तीन खण्डों में विभाजित किया गया है। इस संकलन के पहले भाग में पूर्व-इस्लामिक अरब काल के कवियों का जीवन वर्णन और उनकी काव्य रचनाओं को संकलित किया गया है। दूसरे भाग में उन कवियों के बारे में वर्णन है जो पैगम्बर मुहम्मद के काल में रहे और कवियों की यह श्रृंखला बनी-उम-मय्या राजवंश तक चलती है। तीसरे भाग में इसके बाद खलीफ़ा हारुन-अल-रशीद के काल तक के कवियों को संकलित किया गया है। इस संग्रह का सम्पादन और संकलन तैयार किया है अबू आमिर असामाई ने जो कि हारुन-अल-रशीद के दरबार में एक भाट था। “साया-उल-ओकुल” का सबसे पहला आधुनिक संस्करण बर्लिन में 1864 में प्रकाशित हुआ, इसके बाद एक और संस्करण 1932 में बेरूत से प्रकाशित किया गया।

यह संग्रह प्राचीन अरबी कविताओं का सबसे आधिकारिक, सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण संकलन माना जाता है। यह प्राचीन अरब जीवन के सामाजिक पहलू, प्रथाओं, परम्पराओं, तरीकों, मनोरंजन के तरीकों आदि पर पर्याप्त प्रकाश डालता है। इस प्राचीन पुस्तक में प्रतिवर्ष मक्का में आयोजित होने वाले समागम जिसे “ओकाज़” के नाम से जाना जाता है, और जो कि काबा के चारों ओर आयोजित किया जाता है, के बारे में विस्तार से जानकारियाँ दी गई हैं। काबा में वार्षिक “मेले” (जिसे आज हज कहा जाता है) की प्रक्रिया इस्लामिक काल से पहले ही मौजूद थी, यह बात इस पुस्तक को सूक्ष्मता से देखने पर साफ़ पता चल जाती है।

अफगानिस्तान कभी आर्याना था (dr.vaidik )

                                                     ॐ श्री महा गणेशाय नमः


आज अफगानिस्तान और इस्लाम एक-दूसरे के पर्याय बन गए हैं, इसमें शक नहीं लेकिन यह भी सत्य है कि वह देश जितने समय से इस्लामी है, उससे कई गुना समय तक वह गैर-इस्लामी रह चुका है| इस्लाम तो अभी एक हजार साल पहले ही अफगानिस्तान पहुँचा, उसके कई हजार साल पहले तक वह आर्यों, बौद्घों और हिन्दुओं का देश रहा है| धृतराष्ट्र की पत्नी गांधारी, महान संस्कृत वैयाकरण आचार्य पाणिनी और गुरू गोरखनाथ पठान ही थे| जब पहली बार मैंने अफगान लड़कों के नाम कनिष्क और हुविष्क तथा लड़कियों के नाम वेदा और अवेस्ता सुने तो मुझे सुखद आश्चर्य हुआ| अफगानिस्तान की सबसे बड़ी होटलों की श्रृंखला का नामआर्यानाथा और हवाई कम्पनी भीआर्यानाके नाम से जानी जाती थी| भारत के पंजाबियों, राजपूतों और अग्रवालों के गोत्र्-नाम अब भी अनेक पठान कबीलों में ज्यों के त्यों मिल जाते हैं| मंगल, स्थानकजई, कक्कर, सीकरी, सूरी, बहल, बामी, उष्ट्राना, खरोटी आदि गोत्र् पठानों के नामों के साथ जुड़े देखकर कौन चकित नहीं रह जाएगा ? ग़ज़नी और गर्देज़ के बीच एक गाँव के हिन्दू से जब मैंने पूछा कि आपके पूर्वज भारत से अफगानिस्तान कब आए तो उसने तमककर कहाजबसे अफगानिस्तान ज़मीन पर आया|’ इस अफगान हिन्दू की बोली पश्तो थी, फारसी, पंजाबी| वह शायद ब्राहुई थी, जो वर्तमान अफगानिस्तान की सबसे पुरानी भाषा है और वेदों की भाषा के भी बहुत निकट है|

छठी शताब्दि के वराहमिहिर के ग्रन्थवृहत्र संहितामें पहली बारअवगाणशब्द का प्रयोग हुआ है| इसके पहले तीसरी शताब्दि के एक ईरानी शिलालेख मेंअबगानशब्द का उल्लेख माना जाता है| फ्रांसीसी विद्वान साँ-मार्टिन के अनुसार अफगान शब्द संस्कृत केअश्वकयाअशकशब्द से निकला है, जिसका अर्थ है-अश्वारोही या घुड़सवार ! संस्कृत साहित्य में अफगानिस्तान के लिएअश्वकायन‘ (घुड़सवारों का मार्ग) शब्द भी मिलता है| वैसे अफगानिस्तान नाम का विशेष-प्रचलन अहमद शाह दुर्रानी के शासन-काल (1747-1773) में ही हुआ| इसके पूर्व अफगानिस्तान को आर्याना, आर्यानुम्र वीजू, पख्तिया, खुरासान, पश्तूनख्वाह और रोह आदि नामों से पुकारा जाता था|

पारसी मत के प्रवर्त्तक जरथ्रुष्ट द्वारा रचित ग्रन्थजिन्दावेस्तामें इस भूखण्ड को ऐरीन-वीजो या आर्यानुम्र वीजो कहा गया है| अफगान इतिहासकार फज़ले रबी पझवक के अनुसार ये शब्द संस्कृत के आर्यावर्त्त या आर्या-वर्ष से मिलते-जुलते हैं| उनकी राय में आर्य का मतलब होता है-श्रेष्ठ या सम्मानीय और पश्तो भाषा में वर्ष का मतलब होता है–चर भूमि ! अर्थात्र आर्यानुम्र वीज़ो का मतलब है–आर्यों की भूमि ! प्रसिद्घ अफगान इतिहासकार मोहम्मद अली और प्रो0 पझवक का यह दावा है कि ऋग्वेद की रचना वर्तमान भारत की सीमाओं में नहीं, बल्कि आर्योंके आदि देश में हुई, जिसे आज सारी दुनिया अफगानिस्तान के नाम से जानती है| कुछ पश्चिमी विद्वानों ने यह सिद्घ करने की कोशिश की है कि अफगान लोग यहूदियों की सन्तान हैं और मुस्लिम इतिहासकारों का कहना है कि अरब देशों से आकर वे इस इलाके में बस गए| लेकिन प्राचीन ग्रन्थों में मिलनेवाले अन्तर्साक्ष्यों तथा शिलालेखों, मूर्तियों, सिक्कों, खंडहरों, बर्तनों और आभूषणों आदि के बाहिर्साक्ष्य के आधार पर अकाट्रय रूप से माना जा सकता है कि अफगान लोग मध्य एशिया के मूल निवासी हैं| वे अरब भूमि, यूरोप या उत्तरी ध्रुव से आए हुए लोग नहीं हैं| हाँ, इतिहास में हुए फेर-बदल तथा उथल-पुथल के दौरान जिसे हम आज अफगानिस्तान कहते हैं, उस क्षेत्र् की सीमाएँ या संज्ञाएँ हजार-पाँच सौ मील दाएँ-बाएँ और ऊपर-नीचे होती रही हैं तथा दुनिया के इस चौराहे से गुजरनेवाले आक्रान्ताओं, व्यापारियों, धर्मप्रचारकों तथा यात्र्ियों के वंशज स्थानीय लोगों में घुलते-मिलते रहे हैं|

विश्व के सबसे प्राचीन ग्रन्थ ऋग्वेद में पख्तून लोगों और अफगान नदियों का उल्लेख है| दाशराज्ञ-युद्घ मेंपख्तुओंका उल्लेख पुरू कबीले के सहयोगियों के रूप में हुआ है| जिन नदियों को आजकल हम आमू, काबुल, कुर्रम, रंगा, गोमल, हरिरूद आदि नामों से जानते हैं, उन्हें प्राचीन भारतीय लोग क्रमश: वक्षु, कुभा, कु्रम, रसा, गोमती, हर्यू या सर्यू के नाम से जानते थे| जिन स्थानों के नाम आजकल काबुल, कन्धार, बल्ख, वाखान, बगराम, पामीर, बदख्शाँ, पेशावर, स्वात, चारसद्दा आदि हैं, उन्हें संस्कृत और प्राकृत-पालि साहित्य में क्रमश: कुभा या कुहका, गन्धार, बाल्हीक, वोक्काण, कपिशा, मेरू, कम्बोज, पुरुषपुर, सुवास्तु, पुष्कलावती आदि के नाम से जाना जाता था| हेलमंद नदी का नाम अवेस्ता के हायतुमन्त शब्द से निकला है, जो संस्कृत केसतुमन्तका अपभ्रन्श है| इसी प्रकार प्रसिद्घ पठान कबीलेमोहमंदको पाणिनी नेमधुमन्तऔर अफरीदी कोआप्रीता:कहकर पुकारा है| महाभारत में गान्धारी के देश के अनेक सन्दर्भ मिलते हैं| हस्तिनापुर के राजा संवरण पर जब सुदास ने आक्रमण्पा किया तो संवरण की सहायता के लिए जोपस्थलोग पश्चिम से आए, वे पठान ही थे| छान्दोग्य उपनिषद्र, मार्कण्डेय पुराण, ब्राह्मण ग्रन्थों तथा बौद्घ साहित्य में अफगानिस्तान के इतने अधिक और विविध सन्दर्भ उपलब्ध हैं कि उन्हें पढ़कर लगता है कि अफगानिस्तान तो भारत ही है, अपने पूर्वजों का ही देश है| यदि अफगानिस्तान को अपने स्मृति-पटल से हटा दिया जाए तो भारत का सांस्कृतिक-इतिहास लिखना असम्भव है| लगभग डेढ़ करोड़ निवासियों के इस भू-वेष्टित देश में हिन्दुकुश पर्वत का वही महत्व है जो भारत में हिमालय का है या मिस्र में नील नदी का है ! इब्न वतूता का कहना है कि इस पर्वत को हिन्दुकुश इसलिए कहते हैं कि हिन्दुस्तान से लाए जानेवाले गुलाम लड़के और लड़कियाँ इस क्षेत्र् में भयानक ठंड के कारण मर जाते थे| हिन्दुकुश अर्थात्र हिन्दुओं को मारनेवाला ! लेकिन अफगान विद्वान फज़ले रबी पझवक की मान्यता है कि यदि हिन्दुकुश शब्द का अर्थ प्राचीन बख्तरी भाषा तथा पश्तो के आधार पर किया जाए तो हिन्दुकुश का मतलब होगा–नदियों का उद्रगम ! बख्तरी भाषा में को कहने का रिवाज है| अत: सिन्धु से हिन्दू बन गया| सिन्धू का मतलब होता है–नदी ! वास्तव में हिन्दुकुश पर्वत से, जो कि हिमालय की एक पश्चिमी शाखा है, अफगानिस्तान को कई महत्वपूर्ण नदियों का उद्रगम और सिंचन होता है| वक्षु, काबुल, हरीरूद और हेलमंद आदि नदियों का पिता हिन्दुकुश ही है| वर्षा की कमी के कारण जब अफगानिस्तान की नदियाँ सूखने लगती हैं तो हिन्दुकुश का बर्फ पिघल-पिघलकर उनकी प्यास बुझाता है|
ऋग्वेद औरजिन्दावस्तादुनिया के सबसे प्राचीन ग्रन्थ माने जाते हैं| दोनों की रचना अफगानिस्तान में हुई, ऐसा बहुत-से यूरोपीय विद्वान भी मानते हैं| उन्होंने अनेक तर्क और प्रमाण भी दिए हैं| अवेस्ता के रचनाकार महर्षि जरथ्रुष्ट का जन्म उत्तरी अफगानिस्तान में बल्ख के आस-पास हुआ और वहीं रहकर उन्होंने पारसी धर्म का प्रचलन किया, जो लगभग एक हजार साल तक ईरान का राष्ट्रीय धर्म बना रहा| वेदों और अवेस्ता की भाषा ही एक जैसी नहीं है बल्कि उनके देवताओं के नाम मित्र्, इन्द्र, वरुण–आदि भी एक-जैसे हैं| देवासुर संग्रामों के वर्णन भी दोनों में मिलते हैं| अब से लगभग 2500 साल पहले ईरानी राजाओं–देरियस और सायरस– ने अफगान क्षेत्र् पर अपना अधिकार जमा लिया था| देरियस के शिलालेख में खुद को ऐर्य ऐर्यपुत्र् (आर्य आर्यपुत्र्) कहता है| हिन्दुकुश के उत्तरी क्षेत्र् को उन्होंने बेक्टि्रया तथा दक्षिणी क्षेत्र् को गान्धार कहा| दो सौ साल बाद यूनानी विजेता सिकन्दर इस क्षेत्र् में घुस आया| सिकन्दर के सेनापतियों ने इस क्षेत्र् पर लगभग दो सौ साल तक अपना वर्चस्व बनाए रखा| उन्होंने अपना साम्राज्य मध्य एशिया और पंजाब के आगे तक फैलाया| आज भी अनेक अफगानों को देखते ही आप तुरन्त समझ सकते हैं कि वे यूनानियों की तरह क्यों लगते हैं| आमू दरिया और कोकचा नदी के किनारे बसे गाँवआया खानुमकी खुदाई में अभी कुछ वर्ष पहले ही ग्रीक साम्राज्य के वैभव के प्रचुर प्रमाण मिले हैं|
ईसा के तीन सौ साल पहले जब अफगानिस्तान में यूनानी साम्राज्य दनदना रहा था, भारत में मौर्य साम्राज्य-चन्द्रगुप्त, बिन्दुसार और अशोक-का उदय हो चुका था| अशोक ने बौद्घ धर्म को अफगानिस्तान और मध्य एशिया तक फैला दिया| बौद्घ धर्म चीन, जापान और कोरिया समुद्र के रास्तांे नहीं गया बल्कि अफगानिस्तान और मध्य एशिया के थल-मार्गों से होकर गया| पालि-साहित्य में नग्नजित्र और पुक्कुसाति नामक दो अफगान राजाओं का उल्लेख भी आता है, जो गान्धार के स्वामी थे और बिन्दुसार के समकालीन थे| गन्धार राज्य की राजधानी तक्षशिला थी, जिसके स्नातकों में जीवक जैसे वैद्य और कोसलराज प्रसेनजित जैसे राजकुमार भी थे| चन्द्रगुप्त मौर्य और सेल्यूकस के बीच हुई सन्धि के कारण अनेक अफगान और बलूच क्षेत्र् बौद्घ प्रभाव में पहले ही चुके थे| ये सब क्षेत्र् और इनके अलावा मध्य एशिया का लम्बा-चौड़ा भू-भाग ईसा की पहली सदी में जिन राजाओं के वर्चस्व में आया, वे भी बौद्घ ही थे| कुषाण साम्राज्य के इन राजाओं–कनिष्क, हुविष्क, वासुदेव–आदि ने सम्पूर्ण अफगानिस्तान को तो बुद्घ का अनुनायी बनाया ही, बौद्घ धर्म को दुनिया के कोने-कोने तक पहुँचा दिया| चीनी इतिहासकारों ने लिखा है कि सन्र 383 से लेकर 810 तक अनेक बौद्घ ग्रन्थों का चीनी अनुवाद अफगान बौद्घ भिक्षुओं ने ही किया था| बौद्घ धर्म कीमहायानशाखा का प्रारम्भ अफगानिस्तान में ही हुआ| विश्व प्रसिद्घ गांधार-कला का परिपाक कुषाण-काल में ही हुआ| आजकल हम जिस बगराम हवाई अड्डे का नाम बहुत सुनते हैं, वह कभी कुषाणों की राजधानी था| उसका नाम था, कपीसी| पुले-खुमरी से 16 कि0मी0 उत्तर में सुर्ख कोतल नामक जगह में कनिष्क-काल के भव्य खण्डहर अब भी देखे जा सकते हैं| इन्हेंकुहना मस्जिदके नाम से जाना जाता है| पेशावर और लाहौर के संग्रहालयों में इस काल की विलक्षण कलाकृतियाँ अब भी सुरक्षित हैं|

अफगानिस्तान के बामियान, जलालाबाद, बगराम, काबुल, बल्ख आदि स्थानों में अनेक मूर्तियों, स्तूपों, संघारामों, विश्वविद्यालयों और मंदिरों के अवशेष मिलते हैं| काबुल के आसामाई मन्दिर को दो हजार साल पुराना बताया जाता है| आसामाई पहाड़ पर खड़ी पत्थर की दीवार कोहिन्दुशाहोंद्वारा निर्मित परकोटे के रूप में देखा जाता है| काबुल का संग्रहालय बौद्घ अवशेषों का खज़ाना रहा है| अफगान अतीत की इस धरोहर को पहले मुजाहिदीन और अब तालिबान ने लगभग नष्ट कर दिया है| बामियान की सबसे ऊँची और विश्व-प्रसिद्घ बुद्घ प्रतिमाओं को भी उन्होंने नि:शेष कर दिया है| फाह्रयान और ह्नेन सांग ने अपने यात्र-वृतान्तों में इन महान प्रतिमाओं, अफगानों की बुद्घ-भक्ति और बौद्घ धर्म केन्द्रों का अत्यन्त श्रद्घापूर्वक चित्र्ण किया है| अब उनके खण्डहर भी स्मृति के विषय हो गए हैं| जलालाबाद के पास अवस्थित हद्दा में मिट्टी की दो हजार साल पुरानी जीवन्त मूर्तियाँ चीन में सियान के मिट्टी के सिपाहियों जैसी थीं याने उनकी गणना विश्व के आश्चर्यों में की जा सकती थी| वे भी मुजाहिदीन हमलों में नष्ट हो चुकी हैं| बुतपरस्ती का विरोध करने के नाम पर गुमराह इस्लामवादी तत्वों ने अपने बाप-दादों के स्मृति-चिन्ह भी मिटा दिए|

इस्लाम के नौ सौ साल के हमलों के बावजूद अफगानिस्तान का एक इलाका 100 साल पहले तक अपनी प्राचीन सभ्यता को सुरक्षित रख पाया था| उसका नाम है, काफिरिस्तान| यह स्थान पाकिस्तान की सीमा पर स्थित चित्रल के निकट है| तैमूर लंग, बाबर तथा अन्य बादशाहों के हमलों का इनकाफिरोंने सदा डटकर मुकाबला किया और अपना धर्म-परिवर्तन नहीं होने दिया| अफगानिस्तान की कुणार और पंजशीर घाटी के पास रहनेवाले ये पर्वतीय लोग जो भाषा बोलते हैं, उसके शब्द ज्यों के त्यों वेदों की संस्कृत में पाए जाते हैं| ये इन्द्र, मित्र्, वरुण, गविष, सिंह, निर्मालनी आदि देवी-देवताओं की पूजा करते थे| इनके देवताओं की काष्ठ प्रतिमाएँ मैंने स्वयं काबुल संग्रहालय में देखी हैं| चग सराय नामक स्थान पर हजार-बारह सौ साल पुराने एक हिन्दू मन्दिर के खण्डहर भी मिले हैं| सन्र 1896 में अमीर अब्दुर रहमान ने इन काफिरों को तलवार के जोर पर मुसलमान बना लिया| कुछ पश्चिमी इतिहासकारों का मानना है कि ये काफिर लोग हिन्दुओं की तरह चोटी रखते थे और हवि आदि भी देते थे| अमीर अब्दुर रहमान को डर था कि बि्रटिश शासन की मदद से इन लोगों को कहीं ईसाई बना लिया जाए|

अफगानिस्तान में इस्लाम के आगमन के पहले अनेक हिन्दू राजाओं का भी राज रहा| ऐसा नहीं है कि ये राजा काशी, पाटलिपुत्र्, अयोध्या आदि से कन्धार या काबुल गए थे| ये एकदम स्थानीय अफगान या पठान या आर्यवंशीय राजा थे| इनके राजवंश कोहिन्दूशाहीके नाम से ही जाना जाता है| यह नाम उस समय के अरब इतिहासकारों ने ही दिया था| सन्र 843 में कल्लार नामक राजा ने हिन्दूशाही की स्थापना की| तत्कालीन सिक्कों से पता चलता है कि कल्लार के पहले भी रूतविल या रणथल, स्पालपति और लगतुरमान नामक हिन्दू या बौद्घ राजाओं का गांधार प्रदेश में राज था| ये राजा जाति से तुर्क थे लेकिन इनके ज़माने की शिव, दुर्गा और कार्तिकेय की मूतियाँ भी उपलब्ध हुई हैं| ये स्वयं को कनिष्क का वंशज भी मानते थे| अल-बेरूनी के अनुसार हिन्दूशाही राजाओं में कुछ तुर्क और कुछ हिन्दू थे| हिन्दू राजाओं कोकाबुलशाहयामहाराज धर्मपतिकहा जाता था| इन राजाओं में कल्लार, सामन्तदेव, भीम, अष्टपाल, जयपाल, आनन्दपाल, त्रिलोचनपाल, भीमपाल आदि उल्लेखनीय हैं| इन राजाओं ने लगभग साढ़े तीन सौ साल तक अरब आततायियों और लुटेरों को जबर्दस्त टक्कर दी और उन्हें सिंधु नदी पार करके भारत में नहीं घुसने दिया| लेकिन 1019 में महमूद गज़नी से त्रिलोचनपाल की हार के साथ अफगानिस्तान का इतिहास पलटा खा गया| फिर भी अफगानिस्तान को मुसलमान बनने में पैगम्बर मुहम्मद के बाद लगभग चार सौ साल लग गए| यह आश्चर्य की बात